HimachalMandi

अंतरराष्ट्रीय गिरोह के चंगुल से बचाई थी 2 बच्चियां, हिमाचल की इस बेटी की हिम्मत बनी मिसाल

nn
loading...

कंगना रणौत के साथ काम कर चुकी हिमाचल की बेटी प्रीति सूद को महिला दिवस के अवसर पर उनके बहादुरी के कारनामे के लिए हिमाचल और महाराष्ट्र सरकार से पुरस्कृत करने की मांग उठने लगी है।

बता दें कि प्रीति के साहस और सूझबूझ से न केवल अंतरराष्ट्रीय मानव तस्कर गिरोह के चंगुल से दो बच्चियों को छुड़ाया। बल्कि इस गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार भी करवाया। प्रीति ने मुंबई के बर्सोवा इलाके के एक सैलून में 11 और 17 साल की दो बच्चियों को रेसक्यू करवाया। जिन्हें मेकअप के लिए यहां लाया गया था और उन्हें देह व्यापार के लिए यूएसए ले जाया जा रहा था।

प्रीति को जब शक हुआ तो उसने सैलून के मैनेजर से बात की तो उसे पता चला कि उन लड़कियों को बाहर भेजने के लिए तैयार किया जा रहा है। उसने उनके साथ आए दो युवकों की नजर बचाकर उन लड़कियों से बात की तो पता चला कि वे गुजरात की रहने वाली हैं, लेकिन जब दोनो युवाओं को शक हुआ तो वे उन लड़कियों को वहां से ले जाने लगे। लेकिन पहाड़ की यह बहादुर बेटी उनसे भिड़ गई और उन्हें रोक लिया। इसकी सूचना पुलिस को दी और पुलिस की टीम ने दोनों आरोपियों को पकड़ लिया। उनसे पूछताछ के दौरान बताया कि वे उन दोनों लड़कियों को गुजरात से एक लाख में खरीद कर लाए थे और उन्हें यूएस में बेचने वाले थे जहां उनसे वेश्यावृति करवाई जानी थी।

प्रीति की इस बहादुरी के कारनामें का पता जब मंडी जिला के पांगणा निवासी संस्कृति कर्मी एवं समाजसेवी डॉ. जगदीश शर्मा को चला, तो वे पहाड़ की इस बेटी के साहस के कायल हो गए। उन्होंने हिमाचल और महाराष्ट्र सरकार से प्रीति की बहादुरी के लिए पुरस्कृत करने की मांग की है। डॉ. जगदीश ने बताया कि प्रीति वर्ष 2014 में कंगना रणैत के साथ फिल्म रिवाल्वर रानी में काम कर चुकी है। इसके अलावा मॉडलिंग और विज्ञापन फिल्मों में भी वह काम कर चुकी है।

डॉ. जगदीश ने बताया कि प्रीति दो बार ऐतिहासिक नगरी पांगणा में अंटू की अम्मा नामक फिल्म की शूटिंग के लिए आ चुकी है। महिला दिवस पर शिमला के ठियोग निवासी प्रीति को सम्मानित करने की मांग को वे महिला दिवस के रूप तोहफा बता रहे हैं।

loading...

Leave a Reply