HimachalShimla

ऑटो-टैक्सी चालकों को अब नहीं होगी कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस की जरूरत

nn

सड़क और परिवहन मंत्रालय ने  कमर्शियल वाहन चालकों को बड़ी राहत दी है। अब टैक्सी, ऑटो रिक्शा, ई रिक्शा और दो पहिया चालकों को कमर्शियल लाइसेंस की जरूरत नहीं होगी। सड़क परिवहन मंत्रालय ने इस संबंध में एडवाइजरी की है।

loading...

सरकार के इस फैसले से लाखों टैक्सी, ऑटो-रिक्शा, ई-रिक्शा और दूसरे ड्राइवरों को राहत मिलेगी। बिना गियर वाली मोटरसाइकिल, गियर वाली मोटरसाइकिल, लाइट वेट कार, ई-रिक्शा ऑटो-रिक्शा के लिए ये छूट दी गई है।

केंद्रीय परिवहन मंत्रालय ने दिल्ली समेत सभी राज्यों के परिवहन प्राधिकरणों को यह व्यवस्था लागू करने का आदेश दिया है। आदेश में सेंट्रल मोटर व्हीकल एक्ट 1988 के सेक्शन 2(21) का हवाला दिया गया है। इस आदेश में कहा गया है कि निजी लाइट मोटर व्हीकल ड्राइविंग लाइसेंसधारी 7500 किलोग्राम तक के वजन वाले गुड़्स (व्यवसायिक वाहन) व्हीकल चला सकते है।

आपको बता दें कि अभी किसी भी तरह के पैसैंजर्स व्हीकल या फिर हल्के व भारी व्यवसायिक वाहन को चलाने के लिए कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल)  की जरूरत होती है।

कमर्शियल लाइसेंस से पहले एक साल सामान्य डीएल बनने के बाद ही बनवाया जा सकता है।

परिवहन मंत्रालय से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक, ”इससे कमर्शियल लाइसेंस बनाने में हो रहा बड़े स्तर का भ्रष्टाचार खत्म होगा.

[Total: 0    Average: 0/5]

Leave a Reply