DharmashalaKangra

गद्दी समुदाय के लोगों ने एसपी दफ्तर के बाहर दिया धरना

nn
loading...
gaddi-community
गद्दी समुदाय के लोगों ने एसपी दफ्तर के बाहर दिया धरना

gaddi-community पर  हुए लाठीचार्ज के विरोध मे निकाली रैली


धर्मशाला पुलिस द्वारा Gaddi Community के लोगों पर बुधवार को किए लाठीचार्ज के बाद वीरवार को गद्दी समुदाय के लोगों ने प्रदेश सरकार व पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। पुलिस लाठीचार्ज से घायल हुए लोगों की हालत पर गद्दी समुदाय के लोगों ने अपने तेवरों को कड़ा करते हुए कोतवाली बाजार से रैली निकालते हुए सीधे एसपी कार्यालय पर धरना दिया।
गद्दी समुदाय के लोग गेट खोल कर भीतर चले गए, जिन्हे पुलिस ने रोकने का प्रयास किया। पुलिस को पहले ही भनक थी कि गद्दी समुदाय शहर में उग्र प्रदर्शन कर सकता है, जिसको लेकर पुलिस ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हुए थे। कांगड़ा एसपी कार्यालय वीरवार को पुलिस छावनी में तबदील रहा। इस मौके पर पूर्व मंत्री व भाजपा ने किशन कपूर, जिला कांगड़ा भाजपा अध्यक्ष संजय चौधरी व गद्दी यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष संजय कपूर भी उपस्थित थे।

गद्दी समुदाय के लोगों ने पुलिस के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली तथा मैक्लोडगंज पुलिस थाना के एसएचओ को बर्खास्त करने की मांग की। गद्दी समुदाय के लोगों का आरोप था कि वे शांतिपूर्व तरीके से अपना विरोध प्रकट कर रहे थे तथा उसके बाद भी पुलिस ने उन पर लाठियां बरसाईं। इस मौके पर किशन कपूर ने कहा पुलिस कार्रवाई से गद्दी समुदाय के कुछ ऐसे लोगों को भी चोटें आई हैं, जो पूर्व में सैनिक रहे हैं।

   Gaddi Community ने इस मामले की न्यायिक जांच की मांग की

उन्होंने कहा कि पुलिस ने सरकार के दबाव में निहत्थे लोगों पर लाठीचार्ज किया है, जिसे सहन नही किया जाएगा। संजय चौधरी ने कहा कि यह सरकार की तानाशाही है। वहीं इस मौके पर कांगड़ा के एसपी रमेश छाजटा ने विरोध कर रहे लोगों को समझाने का भी प्रयास किया, परंतु गद्दी समुदाय के लोग पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। गद्दी समुदाय के लोगों ने बाद में उपायुक्त कांगड़ा के माध्यम से राजपाल को एक ज्ञापन भी भेजा, जिसमें उन्होंने इस मामले की न्यायिक जांच की मांग की है।

ज्ञापन में उन्होंने आरोप लगाया है कि यह लाठीचार्ज मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह व मंत्री सुधीर शर्मा के इशारे पर हुआ है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के डलझील में एक कार्यक्रम में जाने के दौरान गद्दी समुदाय के लोग प्रदर्शन कर रहे थे, जिन पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। कांगड़ा के एसपी रमेश छाजटा ने कहा कि पुलिस कभी नहीं चाहती कि लोगों पर लाठीचार्ज हो।

बुधवार के दिन जिस स्थान पर गद्दी समुदाय के लोग विरोध कर रहे थे। वहां डीएसपी व पुलिस के जवानों को तैनात किया गया था, ताकि कोई अप्रिय घटना न घटे। उन्होंने कहा कि पुलिस ने विरोध कर रहे लोगों को समझाने का प्रयास भी किया, परंतु जब विरोध कर रहे लोगों ने पुलिस से बदसलूकी करना शुरू की तो मजबूरन उन्हें लाठीचार्ज करना पड़ा। उन्होंने कहा कि इस मामले में 8 लोगों पर मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि अगर इस मामले में जांच की जरूरत होगी तो करेंगे।

  लाठीचार्ज ने किया आग में घी डालने का काम

धर्मशाला भाजपा अध्यक्ष की तुलना गद्दी समुदाय के अध्यक्ष से करने के मामले ने नया मोड़ लेते हुए तूल पकड़ लिया है। बुधवार को जिस प्रकार से मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह अपने बयान से पलटे तो यही माना जा रहा था कि यह मामला अब शांत हो जाएगा, परंतु पुलिस द्वारा विरोध कर रहे गद्दी समुदाय के लोगों पर किए लाठीचार्ज ने इस मामले के बीच आग में घी डालने का काम कर दिया है।

वीरवार को विरोध कर रहे गद्दी समुदाय के लोगों को भाजपा ने भी अपना खुल कर समर्थन दिया तथा इस समर्थन के आगामी विस चुनावों में नई रंगत के परिणाम देखे जाने की चर्चा भी जोरों पर रही। विरोध कर रहे गद्दी समुदाय के लोगों ने लाठीचार्ज को लेकर स्थानीय विधायक व मंत्री सुधीर शर्मा पर भी अपने गुस्से का प्रहार किया है, जिसमें उन्होंने आरोप भी लगाया है कि इस कथित तौर पर इस घटना को मुख्य मंत्री वीरभद्र सिंह व स्थानीय मंत्री के इशारे पर अंजाम दिया गया है।

समुदाय का कहना है कि पूरे प्रदेश में गद्दी समुदाय के विरोध का नुकसान आगामी चुनावों में कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवारों को भुगतना पड़ सकता है। शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा द्वारा मुख्यमंत्री के लिए ब्रेक फास्ट का कार्यक्रम भी रखा गया था, परंतु मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह चुपचाप सुबह 6 बजे ही बिलासपुर दौरे के लिए रवाना हो गए।

मुख्यमंत्री द्वारा चुपचाप धर्मशाला को अलविदा करने से भी दिन-भर लोगों में तरह-तरह की चर्चाएं सुनने को मिली। भाजपा अध्यक्ष व गद्दी समुदाय अध्यक्ष की तुलना को लेकर पनपा यह विवाद अब आगे किस मोड़ पर जाएगा। इस पर कांग्रेस व भाजपा दोंनों की निगाहें भी टिक चुकी हैं। हालांकि वीरवार को कोतवाली बाजार धर्मशाला से से उपायुक्त कार्यलय तक लोगों में उपद्रवग्रस्त का माहौल देखने को मिला।

Leave a Reply