Shimla

गाडि़यों के पास को लेकर विवाद पर पीट-पीटकर युवक की हत्या

nn
loading...
गाडि़यों के पास को लेकर विवाद पर पीट-पीटकर युवक की हत्या – शिमला के नेरवा में गाडि़यों के पास को लेकर ऊपजे विवाद के चलते पीट-पीटकर एक युवक की बेरहमी से हत्या कर दी। आरोपी तीन युवकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। पुलिस को दी शिकायत के मुताबिक 24 साल के रजत पुत्र बलदेव डोहर निवासी की गाड़ी के पास को लेकर रितेश पुत्र मोहन लाल भिख्टा निवासी कलारा के साथ विवाद हो गया। नेरवा बाजार में इन दोनों में झगड़ा हुआ। इसके बाद रजत कालेज मार्ग की तरफ जा रहा था। 



इस दौरान रितेश ने दो अन्य साथियों कार्तिक व निखिल के साथ स्विफ्ट टी-2864 से डुंडी मंदिर के समीप उसकी गाड़ी को रोका। इसके बाद रजत की बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी। जब यह मारपीट हुई तो रजत की माता अपने मायके बोहराड़ से आई थी, जबकि उसके पिता बलदेव राज जंगलात विभाग में डिप्टी रेंजर के पद पर खादर में तैनात हैं, जो कि नेरवा में ही थे। वह रजत को ढूंढ रहे थे। इस दौरान उन्हें पता लगा कि रजत से कुछ युवक मारपीट कर रहे हैं और वह घायलावस्था में कालेज मार्ग के पास पड़ा है।





रजत के माता-पिता उसे नेरवा थाने लेकर गए व मामले की शिकायत दर्ज करवाई। पिटाई से घायल हुए रजत को पुलिस व परिजनों द्वारा नेरवा अस्पताल ले जाया गया, जहां पर उपचार के बाद उसकी मौत हो गई। तीनों आरोपियों को रविवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा। मृतक युवक के शव को पोस्टमार्टम के लिए आईजीएमसी शिमला भेजा गया है। उधर, मृतक की मां सत्या के आरोप है कि हत्या के मुख्य आरोपी रितेश का पिता मोहन लाल उसे बचाने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है। 


अतः पुलिस द्वारा मामले की उच्च स्तरीय व निष्पक्ष जांच की जाए। सत्या का यह भी आरोप है कि रितेश के पिता ने तो सरेआम थाने में यहां तक कह दिया कि बेटा तेरे लिए तो एक-दो और खून भी माफ है। मामले को देख रहे डीएसपी ठियोग राम लाल बंसल ने बताया कि आरोपी के खिलाफ आईपीसी एक्ट की धारा 341, 323, 506 व 302 एवं अनुसूचित जाति एवं जनजाति एक्ट की धारा-3 व 4 के तहत मामला दर्ज किया गया है।