HimachalMandi

गज़ब : ये आदमी नदी किनारे शौच करने वालों का लाइव विडियो  सोशल मीडिया में वायरल  कर देता है 

ब्यास नदी किनारे शौच करने मत जाना …वरना

nn
loading...

हिमाचली ख़बर (मंडी ) शहर के पड्डल वार्ड निवासी शरद मल्होत्रा ने इन दिनों खुले में शौच करने वालों के खिलाफ एक अभियान छेड़ रखा है। शरद पंचवक्त्र मंदिर के पास ब्यास नदी के तट पर शौच करने वालों को खदेड़ने का काम कर रहे हैं और अब इन्होंने शौच करने वालों को शर्मिंदगी महसूस करवाने के लिए एक नया तरीका ईजाद किया है।

शरद खुले में शौच करने वालों को हार पहनाकर सम्मानित कर रहे हैं और इसका पूरा वीडियो सोशल मीडिया पर लाइव दिखा रहे हैं। शरद मल्होत्रा द्वारा दिखाए जा रहे यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं और लोग जमकर शरद के इस कार्य की प्रशंसा कर रहे हैं। बता दें कि शरद मल्होत्रा पेशे से फिजियोथैरेपिस्ट हैं। शरद ने बताया कि वह हर दिन देखते हैं कि शौचालय होने के बावजूद भी लोग ब्यास नदी के तट पर गंदगी फैला रहे हैं। इसी बात से आहत होकर उन्होंने बीते कई दिनों से यह अभियान चला रखा है।

शरद के इस अभियान को ज्यादा बल सोशल मीडिया पर लाइव करने से मिला। क्योंकि शौच करने वालों को इससे ज्यादा शर्मिंदगी महसूस हुई। शरद बताते हैं कि उन्हें इस अभियान में काफी सफलता मिली है और नदी किनारे शौच करने के लिए आने वालों की संख्या अब नाममात्र की ही रह गई है। शरद रोजाना सुबह उठकर हाथ में एक डंडा, मोबाइल और हार लेकर ब्यास नदी के तट पर पहुंच जाते हैं। यहां पहुंचते ही उन्हें जो भी शौच करता हुआ मिलता है वह उसकी इस हरकत को लाइव दिखाने के साथ उसे हार भी पहनाते हैं।

शरद ने बताया कि डंडा वह अपनी सुरक्षा के लिए ले जाते हैं जबकि उन्होंने कभी किसी के साथ कोई मारपीट नहीं की। बल्कि सिर्फ लोगों को शर्मिंदगी महसूस करवाने का ही प्रयास किया ताकि खुले में फैलाई जा रही गंदगी को रोका जा सके। शरद लोगों को गुस्से भरे लहजे में बाहर शौच न करने को लेकर समझाते हैं। साथ ही वह इसकी सूचना सेनिटरी इंस्पैक्टर प्रदीप दीक्षित को भी देकर उन्हें भी मौके पर बुला रहे हैं। नदी के किनारे अधिकतर वह लोग शौच करने के लिए आ रहे हैं जो बाहर से आए हुए हैं। स्थानीय लोग ऐसी हरकत नहीं करते। अधिकतर वह लोग हैं जो यहां होटलों या ढाबों में काम करते हैं।

शरद लोगों को समझाते हैं कि नगर परिषद ने शहर में शौचालय बना रखे हैं और जिनके पास यह लोग काम करते हैं यह उनका फर्ज बनता है कि अपने कर्मचारियों को शौच करने के लिए खुले में न भेजें। शरद ने बताया कि वह अपने इस अभियान को तब तक जारी रखेंगे जब तक मंडी शहर में ब्यास नदी के तट पर खुले में शौच करने का क्रम बंद नहीं हो जाता। शरद के इस अभियान में अब स्थानीय लोग भी जुड़ रहे हैं और सुबह उनके साथ ब्यास नदी के तट पर पहुंच रहे हैं। बता दें कि पंचवक्त्र मंदिर के पास प्रवासी लोगों की झुग्गी भी है लेकिन इनके लिए नगर परिषद ने अब शौचालय बना दिया है। यहां के लोग भी खुले में शौच करते थे जिन्हें भी शरद ने समझाकर अब शौचालय में जाने के लिए प्रेरित कर दिया है।

Leave a Reply