Chamba

चंबा में बाढ़ के बाद ‘लकड़ी चोरों’ की बल्ले-बल्ले, जान जोखिम में डाल कर रहे हैं चोरी

nn
loading...

चंबा में बाढ़ के बाद ‘लकड़ी चोरों’ की बल्ले-बल्ले, जान जोखिम में डाल कर रहे हैं चोरी – जिले में बहने वाली रावी नदी में कुछ दिन पहले हालात बेकाबू हो गए थे. नदी का जलस्तर इतना बढ़ गया था कि हर तरफ रावी नदी के ताण्डव ने सिर्फ तबाही मचाने का काम शुरू किया. रावी नदी के खौफनाक मंजर के बाद भी कुछ लोग चंद पैसों के लिए अपनी जान दाव पर लगा रहा हैं.

नदी का जलस्तर बढ़ने से यहां कहीं सड़क तो कहीं पुल रावी नदी के रौद्र रूप के आगे टिक नहीं पाए और सैकड़ों टन खड़े पेड़ भारी संख्या में बहते हुए चम्बा के सुल्तानपुर पहुंचे और वहां किनारे लग गए. अब कुछ लोग पैसों के लिए अपनी जान जोखिम में डाल कर रावी नदी के किनारे लगे इन पेड़ों को निकालने का प्रयास कर रहे हैं.

वन विभाग की संपदा को सरेआम इन लोगों द्वारा उठाया जा रहा है, लेकिन अब वन विभाग को इसकी सूचना मिलने के बाद विभाग सचेत हो गया है. वहीं, चम्बा डीएफओ संजीव शर्मा ने बताया कि कुछ दिन पहले भारी बारिश के बाद रावी नदी में काफी संख्या में पेड़ बहे थे जो शीतला पुल के साथ-साथ सुल्तानपुर में पहुंचे, लेकिन इनके आस-पास रहने वाले लोग इन्हें उठाने में लगे हुए हैं. इसलिए विभाग ने वहां पर अपना स्टाफ तैनात कर दिया है. उन्होंने कहा कि लकड़ी की चोरी करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.