Kangra

चिंतपूर्णी मंदिर परिसर में सैल्फी लेने पर प्रतिबंध

nn
loading...

चिंतपूर्णी: बुधवार (10 अक्तूबर) से शरद नवरात्र शुरू हो रहे हैं जिसके लिए देवभूमि के मंदिर भी फूलों व रंग-बिरंगी लाइटों की लड़ियों से सज गए हैं। 9 दिन तक चलने वाले नवरात्रों को लेकर मां चिंतपूर्णी, श्री नयनादेवी जी, मां ज्वालाजी मंदिर, मां बगुलामुखी व मां चामुंडा का दरबार श्रद्धालुओं के लिए तैयार हो गए हैं। इन 9 दिनों तक मां के दरबार में संगतों की टोलियां मन्नतें मांगने व परिवार के सुखद भविष्य की कामना लेकर आती हैं। मां के जयकारों के साथ गूंजायमान होने वाले मां के दरबार में रात्रि को मां की आरती के लिए प्रशासन ने विशेष प्रबंध किए हुए हैं। वहीं प्रदेश का व्यापारी वर्ग भी खासा उत्साहित है।
शारद नवरात्र मेलों के दौरान इस बार विश्वविख्यात शक्तिपीठ मां चिंतपूर्णी मंदिर परिसर में सैल्फी खींचने पर प्रतिबंध रहेगा। 10 से 18 अक्तूबर तक शारद नवरात्र मेलों में ङ्क्षचतपूर्णी दरबार को दिल्ली के श्रद्धालु ने दुल्हन की तरह सजाया है। मंदिर की सजावट के लिए विदेशी फूल मंगवाए गए थे। रंग-बिरंगे फूलों की सजावट से मंदिर परिसर में अलग ही नजारा देखने को मिल रहा है। सजावट के लिए कारीगर भी विशेष रूप से श्रद्धालु कमल शर्मा द्वारा दिल्ली से बुलाए गए थे।
मंदिर अधिकारी अवनीश शर्मा ने बताया कि ङ्क्षचतपूर्णी मंदिर परिसर में नवरात्रों के दौरान सैल्फी खींचने पर प्रतिबंध लगाया गया है। यह निर्णय मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं की भीड़ कम करने के लिए लिया गया है। अक्सर श्रद्धालु माथा टेकने के बाद यहां सैल्फी खींचने लगते हैं जिससे अव्यवस्था फैलती है

loading...