Shimla

दलित नेता के परिजनों ने डीजीपी से की इंसाफ की गुहार

nn
loading...
बसपा नेता केदार सिंह जिंदान की गाड़ी से कुचल कर हुई हत्या के मामले में शनिवार को जिंदान की पत्नी हेमलता ने रिश्तेदारों व कुछ बसपा नेताओं के साथ पुलिस मुख्यालय में पुलिस अधिकारियों से मुलाकात की।
मुलाकात के दौरान उन्होंने निष्पक्ष जांच की मांग की और परिवार को सुरक्षा देने की लिए कहा। साथ ही मामले में कुछ अन्य आरोपियों के नाम के साथ एक दरख्वास्त भी दी जिसे अधिकारियों ने तत्काल सिरमौर पुलिस को भेज दिया ताकि आगे की कार्रवाई की जा सके।
एडीजी कानून व्यवस्था अनुराग गर्ग ने बताया कि परिवार ने सिरमौर के बजाय आईजीएमसी में पोस्टमार्टम कराने की मांग की जिसके बाद डाक्टरों के पैनल व वीडियोग्राफी कराने के निर्देश दिए गए थे। इसके अलावा भी कुछ अन्य बसपा नेताओं ने अधिकारियों से मुलाकात कर सख्त कार्रवाई की मांग की।
वहीं, कुछ लोगों ने अधिकारियों से मुलाकात में देरी होने पर पुलिस मुख्यालय के गेट पर ही अपनी नाराजगी जताते हुए हल्की नारेबाजी भी की। हालांकि इसके बाद अफसरों से मुलाकात होते ही वह ज्ञापन देकर वापस चले गए।
बसपा नेता की हत्या की हो उच्चस्तरीय जांच
उपमंडल शिलाई के बकरास में बसपा नेता केदार सिंह जिंदान की हत्या के मामले में दलित शोषण मुक्ति मंच ने नाहन में रैली निकाली। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने जिंदान को न्याय दिलाने के लिए नारेबाजी की।
शहर के पक्का टैंक से शुरू हुई रैली गुन्नूघाट, दिल्ली गेट व महिमा लाइब्रेरी होते हुए अतिरिक्त उपायुक्त कार्यालय पहुंची। यहां पर मंच के पदाधिकारियों ने अतिरिक्त उपायुक्त को ज्ञापन सौंपकर मामले की उच्च स्तरीय जांच करवाने की मांग की।
रैली में शामिल एससी-एसटी कर्मचारी कल्याण संघ, कोली समाज, हरिजन समाज, वाल्मीकि सभा, रविदास सभा, किसान सभा, जनवादी महिला समिति, एसएफआई, सीटू, जनवादी नौजवान सभा, ज्ञान-विज्ञान समिति, अंबेदकर युवा मोर्चा, दलित विकास संगठन आदि ने दलित शोषण मुक्ति मंच के बैनर तले निकाली रैली में हत्यारों पर सख्त कार्रवाई करने की मांग उठाई।
मंच के अध्यक्ष सतपाल मान व महासचिव आशीष कुमार ने बताया कि केदार सिंह जिंदान इलाके में दलित उत्पीड़न के मामले उठाते रहे हैं। बीपीएल सूची में हुई गड़बड़ी पर भी उन्होंने आपत्ति जताई थी। उन्होंने मांग की है कि केदार सिंह की हत्या को जातीय अधिनियम के साथ जोड़कर भी देखा जाना चाहिए।

वहीं आरोपियों के खिलाफ गवाही देने वालों को कड़ी सुरक्षा मुहैया कराई जाए। मंच ने मांग की कि केदार सिंह के परिजनों को छुआछूत व जात-पात अधिनियम के अनुसार मुआवजा राशि सरकार मुहैया करवाए। इस मौके पर जनवादी महिला समिति की प्रदेश अध्यक्ष संतोष कपूर सहित कई पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Leave a Reply