Himachal

दशहरा उत्सव में होगी टैक्स की जांच,नहीं लगेगा नाका

nn
loading...
टैक्स चोरी जैसे मामलों पर आबकारी एवं कराधान विभाग की पैनी नजर रहेगी। हालांकि विभाग हर साल अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव के मद्देनजर बजौरा में नाका लगाता था। इस बार नाकाबंदी नहीं होगी। जी.एस.टी. की व्यवस्था के बाद नाकाबंदी पर रोक लगा दी गई है। जी.एस.टी. के दायरे में टैक्स वसूली का कार्य पूरी पारदर्शिता के साथ निपटाया जा रहा है। दशहरा उत्सव में कारोबारी अपनी दुकानें सजाने से पहले ही संबंधित जगह का टैक्स अदा कर रहे हैं। प्लाट पर भी 18 प्रतिशत जी.एस.टी. देनी पड़ रही है। इसके अलावा बिक्री के लिए आने वाले उत्पादों में यदि कहीं टैक्स चोरी का शक होता है तो उस पर ढालपुर में ही विभाग कार्रवाई कर सकता है। इसके लिए विभाग की टीम तैनात रहेगी। 
विभाग का कहना है कि कई बार ऐसे उत्पाद भी बिक्री के लिए आते हैं जो फर्जी तरीके से तैयार किए जाते हैं और उन पर रैपर आदि लगाकर एम.आर.पी. भी दर्शाई होती है। वास्तव में इन उत्पादों पर किसी तरह के टैक्स का भुगतान नहीं हुआ होता है। ऐसे में इन उत्पादों की बिक्री और इस्तेमाल में गड़बड़ी की भी आशंका रहती है। ऐसे उत्पादों पर विभाग नजर रखेगा। अन्य फैक्टरियों में बनने वाले उत्पादों के बिल होते हैं और उन पर जी.एस.टी. भुगतान भी दर्शाया हुआ होता है। इन उत्पादों की बिक्री पर कोई पाबंदी नहीं होगी। 
पिछली बार 1.20 करोड़ टैक्स मिला
पिछले अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव में भी आबकारी एवं कराधान विभाग ने 1.20 करोड़ रुपए टैक्स जुटाया था। यह राशि विभाग को प्लाट आबंटन से मिली थी। जी.एस.टी. के माध्यम से टैक्स अदायगी का कार्य ऑनलाइन होने से विभाग और कारोबारियों की आपसी मुलाकात खत्म सी हो गई है। अब सीधे ऑनलाइन एंट्री पर ही काम हो रहा है और वहीं से टैक्स अदायगी और बकाए का पता लगाकर सीधे नोटिस जारी किए जा रहे हैं।

loading...