Kangra

बैंक क्लर्क ने चुनरी से फंदा लगा दी जान

nn
loading...
बैंक क्लर्क ने चुनरी से फंदा लगा दी जान – कांगड़ा केंद्रीय सहकारी बैंक सीमित में कार्यरत एक क्लर्क ने फंदा लगाकर जान दे दी। दो बेटियों और पत्नी के साथ बड़ोल में रहने वाले क्लर्क ने उस समय चुनरी का फंदा लगाया, जब मकान में कोई नहीं था। वहीं कमरे में कोई सुसाइड नोट न मिलने के कारण आत्महत्या के कारणों का अभी तक खुलासा नहीं हुआ है। 


जानकारी के अनुसार केसीसी बैंक धर्मशाला में वर्ष 2016 से लोन सेक्शन में बतौर क्लर्क सेवाएं दे रहे आलमपुर के विनोद कुमार (42) ने धर्मशाला के समीप बड़ोल में किराये पर कमरा लिया था। यहां वह पत्नी और दो बेटियों के साथ रहता था। बताया जा रहा है कि सोमवार सुबह विनोद की पत्नी कहीं गई हुई थी।

इसी दौरान उसने कमरे में चुनरी से फंदा लगाकर जान दे दी। वहीं जब उसकी पत्नी कमरे में पहुंची तो विनोद की लाश फंदे से लटक रही थी। इसकी सूचना उसने पड़ोस के लोगों और पुलिस को दी। 

पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए क्षेत्रीय अस्पताल धर्मशाला में रखा है, जहां मंगलवार को उसका पोस्टमार्टम होगा। सदर थाना धर्मशाला प्रभारी सुनील राणा ने बताया कि पुलिस सभी बिंदुओं पर गहनता से जांच कर रही है।

डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज टांडा में एक रोगी ने अस्पताल की चौथी मंजिल से छलांग लगाकर जान दे दी। 52 वर्षीय सुभाष चंद पठानकोट का रहने वाला था। बताया जा रहा है कि वह  मानसिक रोगी था।  उसे टांडा के मेडिसिन वार्ड में 17 अगस्त को दाखिल करवाया गया था। रोगी ने जैसे ही सुबह अस्पताल की चौथी मंजिल से छलांग लगाई तो अफरातफरी मच गई।

सुरक्षा कर्मियों ने टांडा पुलिस चौकी को सूचित किया। गंभीर हालत में उसे इमरजेंसी में लाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। एमएस डॉ. जीडी गुप्ता ने बताया कि रोगी मेडिसिन वार्ड में उपचाराधीन था। उन्हें सूचना मिली कि रोगी ने छलांग लगा दी। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

मामले की सूचना  अस्पताल प्रशासन ने पुलिस को दे दी है। पुलिस थाना प्रभारी कुलदीप राज ने बताया कि टांडा अस्पताल प्रशासन की शिकायत पर शव को कब्जे में लेकर घटना की जांच कर शुरू कर दी है। मेडिसिन वार्ड में भर्ती अन्य रोगियों से भी सुभाष के बारे में पुलिस पूछताछ कर रही है। परिजनों को सूचना दे दी गई है।

Leave a Reply