Kangra

भवारना में डायरिया का कहर, 50 लोग पीड़ित

nn
loading...

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खैरा में पिछले 3 दिनों में डायरिया के 50 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। जलजनित रोग डायरिया इस क्षेत्र में तेजी से अपने पैर पसार रहा है। डायरिया के कुछ रोगी अभी भी खैरा अस्पताल में उपचाराधीन हैं वहीं लगभग 50 लोग खैरा में एक निजी क्लीनिक में इलाज के लिए पहुंचे थे। डायरिया का प्रकोप गुनगड़ और लाहट गांवों में ज्यादा देखा जा रहा है। गुनगड़ में पानी के टैंक और सब टैंक से पानी के सैंपल लेकर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजे गए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा कुछ मरीजों को मौके पर जाकर भी दवाइयां दी गई हैं।

रविवार के दिन खैरा अस्पताल में डायरिया से पीड़ित लोगों का आना-जाना लगा रहा। पिछले कई दिनों से दूषित पेयजल के कारण ऐसे हालात उत्पन्न हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी भी लोगों को गांवों में जाकर जागरूक कर रहे हैं। लाहट और आसपास के कुछ क्षेत्रों में भी डायरिया के कुछ मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगों को कुछ विशेष सावधानियां बरतने की हिदायत भी दी गई है। डायरिया को खत्म करने के लिए सरकारी अस्पताल में उपलब्ध दवाई प्रभावी रूप से मरीजों पर असर कर रही है। खैरा अस्पताल भवारना स्वास्थ्य खंड के अंतर्गत पड़ता है, इसलिए डायरिया से निपटने के लिए भवारना अस्पताल से भी जरूरी दवाइयां बी.एम.ओ. डा. सुभाष शर्मा द्वारा खैरा अस्पताल भिजवाई गई हैं, जबकि जिन क्षेत्रों के लोग डायरिया से प्रभावित हुए हैं, वे खंड लम्बागांव के अंतर्गत आते हैं, इसलिए बी.एम.ओ. एस.के. भाटिया थुरल भी लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं।

वहीं खैरा अस्पताल के स्टाफ को विधायक रवि धीमान द्वारा स्टेशन न छोडऩे के निर्देश दिए गए हैं। रवि धीमान ने डायरिया से प्रभावित क्षेत्रों का पिछले कल आई.पी.एच. और स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारियों के साथ दौरा कर हालात का जायजा लिया। इस बारे में जयसिंहपुर के विधायक रवि धीमान ने बताया कि पानी के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। खैरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों को हर सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है और स्थिति अब नियंत्रण में है। बी.डी.सी. सदस्य मंगल व्यास ने बताया कि सरकार पेयजल योजनाओं के शुद्धिकरण की तरफ कदम उठाए, तभी ऐसी बीमारियों से रोकथाम संभव है।

from Blogger https://ift.tt/2tLAnbU

Leave a Reply