Shimla

वीरभद्र के घर छोड़ गया कोई अपना बच्चा

nn
loading...
हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के निजी आवास हॉली लॉज में कोई अज्ञात शख्स तीन साल के बच्चे को छोड़ कर फरार हो गया. पूर्व मुख्यमंत्री के निजी आवास परिसर में एक नन्हें मासूम बच्चे को रोता बिलखता देख सुरक्षाकर्मियों में खलबली मच गई. मासूम को परिसर में देख पूर्व मुख्यमंत्री की पत्नी भी हैरत में पड़ गई. पहले तो सुरक्षा कर्मचारी रोते बिलखते बच्चे को चुप करवाने का भरसक प्रयास करते रहे, लेकिन जब बच्चा चुप नहीं हो रहा था तो उसे गोदी में उठाकर परिसर से बाहर ले जाकर उसके परिजनों की तलाश करते रहे. मासूम बच्चे को बिखलता देख पूर्व मुख्यमंत्री की पत्नी ने इस बारे में पुलिस को सूचना देने को कहा. पूर्व मुख्यमंत्री की पत्नी के आदेश पर सुरक्षाकमिर्यों ने वॉकी-टॉकी सैट के जरिए पुलिस को सूचना दी.
पुलिस के वायरलैस सैट पर दनादना मैसेज चलने शुरू को गए कि पूर्व मुख्यमंत्री के निजी आवास परिसर में कोई अजनबी बच्चे को छोड़ गया है, पता लगाया जाए कि ये बच्चा किसका है, लेकिन जब कहीं से भी कोई रिस्पोंस नहीं आया तो इस बच्चे को लेने सदर थाना पुलिस पहुंच गई. पुलिस इससे पहले कि बच्चे को अपने साथ ले जाती तभी पूर्व मुख्यमंत्री और उनकी पत्नी ने बच्चे को कहीं भी ले जाने से मना कर दिया. वीरभद्र सिंह ने कहा कि जब तक बच्चे के परिजन नहीं मिल जाते तब तक ये मासूम बच्चा यहीं रहेगा. अब इस बच्चे के परिजनों की तलाश करना पुलिसकर्मियों को गले की फांस बन गया.
इधर, सुरक्षा कर्मी आवास के आसपास मासूम बच्चे के परिजनों का पता करते रहे तो वहीं रात भर पुलिस के वायरलैस सैट पर भी पूर्व मुख्यमंत्री के निजी आवास में बच्चा छोड़े जाने के दनादन मैसेज चलते रहे. लेकिन पुलिस को कोई पता नहीं चला. सुबह हो गई, लेकिन फिर भी कोई पता नहीं. बच्चे छोडने वाले की तलाश जारी ही थी कि तभी एक नेपाली दंपति बच्चे की तलाश में पूर्व मुख्यमंत्री के निजी आवास पहुंच गया.
कोई होश नहीं रहा
नेपाली ने कहा कि यह बच्चा मेरा है. साहब रात को इतनी पी ली थी कि कोई होश नहीं रहा कि बच्चा कहा छोड़कर आ गया. नेपाली ने कहा कि सुबह तब पता चला जब ढली में पुलिस के वायरलैस सैट पर बच्चे के छोड़े जाने का मैसेज सुना तब सीधा यहीं आ गया. पुलिस के अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री के निजी आवास परिसर में बच्चे को छोडने वाला नेपाली और उसकी पत्नी पूर्व मुख्यमंत्री के निजी आवास के आसपास ही मजदूरी का काम करते है, लेकिन ये नेपाली दंपति ढली के भट्टाकुफर में रहते है.
बच्चे की कोई याद नहीं रही
नेपाली पति-पत्नी अपने बच्चे को रोज साथ लाते है. गुरूवार को नेपाली की पत्नी अपने एक बच्चे को लेकर पहले घर चली गई और दूसरे बच्चे को अपने पति के पास छोड़ गई की इसे अपने साथ लाना. लेकिन नेपाली शराब पीने बैठ गया और नशे में टल्ली होकर इतना बेसुध हो गया कि अपने तीन साल के बच्चे को पूर्व मुख्यमंत्री के निजी आवास में छोड़कर निकल लिया और फिर कहीं और जाकर शराब पीने बैठ गया तथा वहीं से आधी रात को घर चला गया, लेकिन शराब के नशे में मदहोश नेपाली को सुबह तक बच्चे की कोई याद नहीं रही. पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज सुबह बच्चे को उसके परिजनों के सुपुर्द कर दिया.

loading...