DharmashalaHimachalKangra

सख्ती पर बिफर पड़े टैक्सी ऑपरेटर्स, बंद रखी सेवाएं

nn

नूरपुर स्कूल बस हादसे के बाद हुई सख्ती निजी टैक्सी आपरेटरों को रास नहीं आई है। टैक्सियों में ओवरलोडिंग से रोकने का अभियान शुरू होते ही आपरेटर्स खफा हो गए हैं। वीरवार को टैक्सी आपरेटर्स ने अपनी सेवाएं बंद रखीं और बच्चों को स्कूल भी नहीं पहुंचाया। ऐसे में बच्चों के अभिभावकों को खासी कसरत करनी पड़ी। अधिकतर अभिभावकों को बच्चों को स्कूल पहुंचाने और वापस लाने के लिए खुद मशक्कत करनी पड़ी। वहीं टैक्सी ऑपरेटरों ने अपनी मांगों के संबंध में एक ज्ञापन डीसी कांगड़ा संदीप कुमार को सौंपा है।

loading...

टैक्सी ऑपरेटरों का कहना है कि वह पिछले करीब 20 वर्षों से विभिन्न स्कूलों में बच्चों को लाने व ले जाने में सेवाएं दे रहे हैं। अब प्रशासन ने जो मुहिम चलाई है, उससे आपरेटरों को काफी नुकसान हो रहा है। ऑपरेट्र्स का कहना है कि इनमें अधिकतर टैक्सियां बैंकों से लोन लेकर चल रही हैं। स्कूली बच्चों को ढोकर यह लोग अपना परिवार पाल रहे हैं और बैंक की किस्तें भी दे रहे हैं।

अब अगर इन्हें स्कूलों में इस्तेमाल नहीं करने दिया जाएगा, तो उनको गंभीर आर्थिक संकट से जूझना पड़ेगा। ऐसे में उनके परिवारों को भूखे मरने की नौबत आ जाएगी। टैक्सी ऑपरेटरों का कहना है कि वह भी अपनी जिम्मेदारी समझते हैं और बच्चों की सुरक्षा उनके लिए भी सर्वोपरि होती है। टैक्सी ऑपरेटरों ने प्रशासन से मांग की है कि समस्या का कोई सार्थक हल निकाले, जिससे कि टैक्सी ऑपरेटरों के हितों का नुकसान न हो। यदि ऐसा नहीं हुआ तो वह सड़कों पर उतरने को मजबूर होंगे।

अभी भी निजी स्कूलों की मनमानी नहीं रुकी

ज्वालामुखी। नूरपूर हादसे के बाद स्कूली बच्चों की सुरक्षा को लेकर सरकार की ओर से भले ही कई दावे किए जा रहे हों,लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि अभी भी निजी स्कूलों की मनमानी रुकी नहीं है। ज्वालामुखी में वीरवार को पुलिस ने नाका लगाकर स्कूलों के वाहनों की चैकिंग की तो कई वाहन जहां ओवरलोड थे, तो उनमें स्कूल के पांच-पांच टीचर सफर कर रहे थे।

हालांकि कानूनी तौर पर हर वाहन में स्कूल प्रबंधन को एक हेल्पर तैनात करना होता है व कोई भी स्कूल टीचर स्कूल बस में सफर नहीं कर सकता। किसी भी बस में फस्र्ट एड बॉक्स सही नहीं पाया गया। बसों में आग बुझाने के जो यंत्र थे वह ओवरडेट हो गए थे। इस दौरान स्कूल बसों का चालान कर जुर्माना वसूला गया। समाजसेवी उत्तम चंद ने बताया कि सरकार को कानून में बदलाव कर भारी जुर्माना का प्रावधान करना चाहिए।

टैक्सी चालकों ने एसपी को सौंपा ज्ञापन

धर्मशाला। धर्मशाला में वीरवार को टैक्सी ऑपरेटर्स संगठन के करीब 250 टैक्सी चालाकों ने एसपी कांगड़ा संतोष पटियाल को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर पत्रकारों से रू-ब-रू होते हुए टैक्सी चालकों ने कहा कि सभी टैक्सी चालकों ने बैंक से ऋण लेकर टैक्सियां खरीदी हुई हैं और वह कर्ज तले दबे हुए हैं। उन्होंने बताया कि प्रशसान द्वारा चलाई गई इस मुहिम के चलते 500 के लगभग गाडिय़ां बंद हो जाएंगी व कई टैक्सी चालक बेरोजगारी की कगार पर आ जाएंगे, इसमें से ज्यादा व्यक्तियों का रोजगार यही है।

इस मौके पर उन्होंने एसपी कांगड़ा संतोष पटियाल से गुहार लगाते हुए कहा कि इस विषय पर गंभीरता से जायजा लिया जाए व समस्या का शांतिपूर्वक हल किया जाए जो कि समस्त चालकों के हित मेंं हो। उन्होंने बताया कि जब तक इस समस्या का कोई हल नहीं निकाला जाता, तब तक इन टैक्सियों को चलने दिया जाए। इस मौके पर हरनाम चौधरी, गगन कुमार, सुनील कुमार, अशोक कुमार, मदन लाल, अजय कुमार, अमन कुमार, हरनाम सिंह, जोगिंद्र सिंह, राजेंद्र, प्रवीण कुमार, रजनीश आदि मौजूद रहे।

[Total: 0    Average: 0/5]

Leave a Reply