Shimla

सीएम की फोटो ही जारी करने पर उखड़े विपक्ष का वाकआउट

cm
nn

शिमला— विधानसभा बजट सत्र के आखिरी दिन सदन की फोटो खींचने के मुद्दे पर ही बवाल मच गया। मामला विधानसभा परिसर में झंडे लाने और मुख्यमंत्री के बजट भाषण को लाइव दिखाने का था, जिस पर बुधवार को विधायक जगत सिंह नेगी ने अध्यक्ष से व्यवस्था चाही थी। गुरुवार को कार्यवाही शुरू होते ही जगत सिंह नेगी ने एक बार फिर इन मुद्दों को उठाया, जिस पर विधानसभा अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल ने कहा कि विधानसभा परिसर की सुरक्षा के दृष्टिगत निर्देश दिए जा चुके हैं। वहीं, मुख्यमंत्री के बजट भाषण को लाइब्रेरी हॉल से लाइव दिखाने की इजाजत उन्होंने ही दी थी। इस पर कांग्रेस विधायक दल के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि इस तरह की इजाजतें एक तरफा दी जा रही हैं, जबकि सदन के कुछ नियम भी हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि रोजाना सदन के भीतर मुख्यमंत्री का फोटो खींच कर जारी कर दिया जाता है, जिसमें विपक्ष को पूरी तरह से नजरअंदाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि केवल सत्तापक्ष की ही फोटो जरूरी नहीं है, सदन पक्ष व विपक्ष दोनों के सहयोग से चलता है। इस पर संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज का कहना था कि ये परंपराएं पहले से चल रही हैं। पहले भी सदन की कार्यवाही की वीडियोग्राफी होती थी और फोटो खींचे जाते थे। पूर्व में भी केवल मुख्यमंत्री और संसदीय कार्य मंत्री ही दिखाई देते थे, इसलिए यह कोई नई प्रथा नहीं है।

इस पर सदन में हंगामा शुरू हो गया। कांग्रेस विधायक दल के नेता मुकेश अग्निहोत्री के साथ अन्य विधायक भी खड़े होकर ऐसी व्यवस्थाओं पर सरकार को घेरने के लिए हंगामा करने लगे, जिसका जवाब सत्तापक्ष की ओर से भी दिया गया। काफी देर तक गहमागहमी भरे माहौल के बीच कांग्रेस विधायक दल के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि जब सदन चलाने के लिए सरकार को विपक्ष का सहयोग चाहिए ही नहीं, तो वह सदन में रहकर क्या करेंगे। उनके इतना कहते ही कांग्रेस के विधायक वाकआउट कर गए और बाहर गैलरी में नारेबाजी शुरू कर दी। काफी देर तक वहां नारेबाजी करने के बाद विपक्षी विधायक परिसर में चले गए।

कांग्रेस द्वारा वाकआउट किए जाने के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस पार्टी निराशा के दौर से गुजर रही है और यह दौर अभी लंबा चलेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस दल के नेता समेत अन्य विधायकों की हताशा साफ झलक रही है। सत्र समापन की ओर है और अंतिम दिन इस तरह की अपेक्षा उन्हें नहीं थी। जयराम ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री सदन का नेता होता है,किसी एक दल का नहीं। यदि मुख्यमंत्री की फोटो आ जाती है, तो इस पर विपक्ष को आपत्ति नहीं होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के लिए यह स्थिति दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने 21 साल के अपने कैरियर की बात करते हुए कहा कि कभी भी इस तरह की छोटी-छोटी बातों को उठाकर हंगामा कर देना, उन्होंने नहीं देखा। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस विधायक दल के नेता की उनके दल में स्वीकार्यता कितनी है, यह उन्हें नहीं मालूम।

…छोटे बच्चों की तरह लेट रहा विपक्ष

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की हालत उस छोटे बच्चे जैसी है, जिसे माता-पिता दुकान से खींच कर आगे ले जाते हैं और वह कुछ चीज लेने के लिए रोता हुआ वहीं लेट जाता है। वही, परिस्थिति कांग्रेस के सामने भी लग रही है। विधानसभा अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल ने कहा कि वह विपक्ष को बोलने का पूरा अवसर दे रहे हैं। बावजूद इसके विपक्ष के विधायक अध्यक्ष के खिलाफ टिप्पणी कर रहे हैं, जिसकी वह निंदा करते हैं।

Loading...
loading...

Leave a Reply