Kangra

हिमाचल मैं शर्मनाक मामला : कई दिनों से स्टाफ को पेशाब मिलाकर पानी पिलाता रहा कर्मचारी

nn
loading...
अम्ब उपमंडल के एक शिक्षण संस्थान में एक घटिया मानसिकता और मानवता को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। जानकारी के अनुसार एक चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी ने अपनी खुन्नस निकालने के लिए कुछ ऐसा कृत्य कर डाला जिसकी हर तरफ निंदा हो रही है। मामला सामने आने के बाद एस.एम.सी. और कुछ प्रबुद्ध वर्ग के हस्तक्षेप से सुलझा लिया गया अन्यथा उक्त कर्मचारी की नौकरी भी जा सकती थी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एक शिक्षण संस्थान का चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी किसी स्टाफ मैम्बर की डांट से इतना भड़क गया कि उसने स्टाफ को पानी पिलाने वाले जग में मूत्र मिश्रित करना शुरू कर दिया। उक्त कर्मचारी 15 दिन रात्रि के समय और 15 दिन के समय ड्यूटी देता था। सुबह इसकी ड्यूटी 9 बजे के करीब समाप्त होती तो यह स्टाफ को पिलाए जाने वाले जल में मूत्र मिलाकर चला जाता और जिस दिन खुद ड्यूटी पर होता उस दिन खुद इस घटिया कुकृत्य को अंजाम देता।
महिला कर्मचारी को पानी के जग में दिखा पीले रंग का द्रव्य पदार्थ
गत सप्ताह जब एक महिला कर्मचारी को पानी के जग में कुछ पीले रंग का द्रव्य पदार्थ दिखा तो उसे शक हुआ तो उसने यह बात स्टाफ के वरिष्ठ सदस्यों के समक्ष लाई तो उन्होंने आरोपी कर्मचारी को पूछा तो वह मुकर गया लेकिन स्टाफ ने सारा मामला एस.एम.सी. के प्रधान के समक्ष रखा। थोड़ी सी सख्ती बरतने और मामला पुलिस के समक्ष ले जाने की बात सुनकर उक्त कर्मचारी टूट गया और उसने अपनी गलती भी मानी परन्तु अपने मूत्र की जगह वो उसे गौमूत्र का नाम देने लगा। आरोपी कर्मचारी द्वारा लिखित माफी मांग लिए जाने पर उसे छोड़ दिया गया परन्तु आरोपी कर्मचारी ने पेयजल में गौमूत्र मिलाया या कुछ और इससे स्टाफ सकते में है और अब संस्थान में पानी पीने की बजाय घर से ही बोतल में पानी लाकर पीने को तरजीह दे रहा है।

loading...