Shimla

IGMC में चोरियों का सिलसिला अभी भी जारी, चंबा निवासी की कटी इस बार जेब

IGMC में चोरियों का सिलसिला
nn
loading...

शिमला। प्रदेश के सबसे बड़े शिक्षण संस्थान व अस्पताल आईजीएमसी में चोरी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। आईजीएमसी में दाखिल मरीज की देखभाल करने आए एक तीमारदार की अस्पताल में जेबकतरों ने जेब काट ली।

जानकारी के मुताबिक सोमवार को ऑर्थो ओपीडी में चंबा के रहने वाले एक 38 वर्षीय पुरूष तीमारदार की दिन दिहाड़े ही जेब कतर डाली है। शातिर ने चोरी को कुछ इस तरह अंजाम दिया की तीमारदार को भनक तक नहीं लगी। जेब कतरों ने तीमारदार की जेब से कुल 20 हजार रुपये चुरा लिए, जिसका पता तब चला जब तीमारदार ओपीडी के सामने बने काउंटर पर टेस्ट की फीस जमा करवाने पहुंचा।

पीड़ित तीमारदार ने प्रशासन को चोरी की सूचना दी। जिसके बाद प्रशासन ने शातिर चोर का पता लगाने के लिए सीसीटीवी फुटेज खंगालना शुरू कर दिया। हालांकि अभी तक वारदात को अंजाम देने वाले चोर का पता नहीं चल पाया है। वहीं, पीड़ित तीमारदार का कहना है कि उसकी जेब से पैसे कहीं छूटे नहीं हैं बल्कि किसी ने निकाल लिए हैं। पिड़ित का कहना है कि ओपीडी में मरीजों की काफी भीड़ लगी रहती है। ऐसे में पता नहीं चल पाया कि कब चोर जेब से पैसे निकाल के ले गया।

गौर हो कि आईजीएमसी में आए दिन चोरी के मामले सामने आते रहते हैं बावजूद इसके प्रशासन द्वारा चोरी से बचने के लिए कोई खासे इंतजाम नहीं किए गए हैं। अस्पताल में आजतक हुई एक भी चोरी का पता नहीं चल पाया है। आईजीएमसी में प्रदेशभर से लोग बेहतर इलाज के लिए पहुंचते हैं। कई तीमारदार लंबे समय तक इलाज चलने के कारण महंगे होटल्स का खर्चा नहीं उठा पाते और अस्पताल के हॉल में या खुले में ही अपने सामान के साथ रातें गुजारते हैं। कई बार तीमारदारों को इमरजेंसी में सामान को खुले में छोड़ कर टेस्ट व दवाइयों के लिए यहां-वहां भटकना पड़ता है। ऐसे में प्रशासन द्वारा चोरियों को रोकने के लिए पुख्ता इंतजाम न होने पर अन्य तीमारदारों को भी चोरी का डर सताने लगा है।

आईजीएमसी में पहले भी हो चुके हैं सामान चोरी

बता दें आईजीएमसी में ये चोरी का पहला मामला नहीं है। अस्पताल में लगातार 6 महीने से चोरियां होती आ रही हैं। पिछले 6 महीने से आईजीएमसी में मरीजों के सोने के गहने, पर्स, कपड़े, 5 मोबाइल फोन और ऑक्सीजन सिलेंडर तक चोरी हुए हैं। लेकिन आज तक चोरी हुए सामानों का कोई पता नहीं चल पाया है।

वहीं, मामले को लेकर आईजीएमसी के एमएस जनक राज का कहना है कि हमारे पास चोरी की सूचना आई है। कुछ सीसीटीवी फुटेज को भी खंगाला गया है लेकिन कोई व्यक्ति चोरी करते हुए नहीं दिख रहा है फिलहाल और भी फुटेज को खंगाला जाएगा। अस्पताल प्रशासन ने मरीजों व तीमारदार से आग्रह किया है कि वे खुद भी सतर्क रहें क्योंकि ओपीडी में काफी भीड़ लगी होती है।

www.himachalikhabar.com

loading...

Leave a Reply