Shimla

जर्जर भवन में पढ़ने को मजबूर देश का भविष्य

SCHOOL
nn

प्रदेश शिक्षा विभाग के प्राथमिक शिक्षा को बेहतर बनाने के लिए स्कूलों के आकर्षण बनाने के दावे खोखले साबित हो रहे हैं। प्रदेश शिक्षा विभाग की योजनाएं भी फाइलों में दफन होने लगी हैं। रामपुर की गोपालपुर पंचायत के करतोट स्कूल की हालत खस्ता है। इस स्कूल भवन की पहली मंजिल में दरवाजे खिड़की पूरी तरह से टूट चुके हैं। दीवारों में छिद्र हो गए हैं। इसके के कारण दीवारें कभी भी ढह सकती हैं। भवन के ऊपरी मंजिल में 4 कमरों में 5 कक्षाएं सहित सी.एच.टी. ऑफि स चल रहा है इस विद्यालय की छत पूरी तरह खराब हो चुकी है, चादरों में जगह-जगह छेद हो चुके हैं जिसकी वजह से पानी विद्यालय के अंदर टपकता है।

इस स्कूल में वर्तमान में 38 छात्र शिक्षा ग्रहण कर रहे

इस भवन की दीवारें टेढ़ी हो चुकी हैं इसके चलते कभी भी कोई घटना घट सकती है। सत्तर के दशक में बने इस स्कूल में वर्तमान में 38 छात्र शिक्षा ग्रहण कर रहे है। क्रिकेट क्लब ठाकु र ब्रदर करतोट के सदस्य सुनील ठाकु र, नीटु, शेखर, शीती, तनु, विपिन, कपिल, हरीश, बीतम, अनिल, बॉबी, तीशु ठाकु र, राकेश ठाकु र, अनिल चौहान, रॉकी चौहान, सौरव चौहान ने बताया कि इस स्कूल की बदहाली की ओर किसी का ध्यान नहीं है। इसमें कभी भी कोई अप्रिय घटना घट सकती है। वहीं इस संदर्भ में युवा सामाजिक कार्यकर्ता विशाल चौहान ने बताया कि प्रारम्भिक शिक्षा निदेशक को पत्र लिख कर इस स्कूल की दशा में सुधारने का आग्रह किया है।

इस स्कूल की स्थिति में सुधार नहीं

सूचना है कि विशाल चौहान ने इससे पहले चौपाल के कई स्कू लों को सुधारने के लिए पहल की थी, जिसमें उन्होंने माननीय उच्च न्यायालय तक का दरवाजा खटखटाया था। उन्होंने कहा कि यदि शिक्षा विभाग शीघ्र ही इस स्कूल की स्थिति में सुधार नहीं करता है। मजबूरन उनको न्याय के लिए न्यायालय का दरवाजा खटखटाना पड़ेगा, वहीं उन्होंने शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज व प्रारंभिक शिक्षा निदेशक मनमोहन शर्मा से मांग की है कि प्रदेश में इस प्रकार के स्कूलों को ङ्क्षचहित किया जाए, साथ उनकी दशा को सुधारने के लिए भी प्रत्यन किया जाएं। प्राथमिक शिक्षा विभाग के खंड प्राथमिक शिक्षा अधिकारी सराहन मोहन सिंह ने बताया कि इस भवन के मुरम्मत के लिए धन आ गया है। शीघ्र ही मुरम्मत कार्य शुरू किया जाएगा।

Loading...
loading...

Leave a Reply