India

कृषि कानून वापस लेने से देश को बडा झटका, शेयर बाजार में बडी टूट, आने वाली है तबाही

मुंबई। कृषि कानून वापसी देश के शेयर बाजार पर बडा कुठराघात हुआ है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) सेंसेक्स में आज 7 महीने की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गई। बाजार 1,170 पॉइंट्स गिर कर 58,465 पर बंद हुआ। अप्रैल के बाद किसी एक दिन में यह सबसे बड़ी गिरावट है।

दरअसल बाजार की गिरावट के कई कारण हैं। सबसे पहले तो केंद्र सरकार द्वारा तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने से सरकारी कंपनियों के शेयर्स पर इसका असर दिखा। इसके बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज की सऊदी अरामको के साथ डील कैंसिल हो गई। तीसरा पेटीएम के शेयर्स में दूसरे दिन भारी गिरावट जारी रही। कई देशों में महंगाई का स्तर बढ़ने के साथ-साथ कोरोना की वजह से लॉकडाउन का लगना भी बाजार की गिरावट का कारण बना।

स्वामीनाथन अय्यर ने इस विषय पर अपने विचार सामने रखे है आप भी जानें

क्या कृषि कानूनों को निरस्त करने से पूरी अर्थव्यवस्था पर व्यापक प्रभाव पड़ सकता है?
हां। दुनिया भर के लोकतंत्रों में, फार्म लॉबी ने इसी तरह के काम किए हैं, लकवाग्रस्त सड़कें, लकवाग्रस्त प्रशासन और सरकारों ने विभिन्न देशों में आत्मसमर्पण किया है और यह यहां भी किया जा सकता है। तो आप कितनी भी चर्चा कर लें, यह होने ही वाला था। उन्हें चर्चा और बहस जैसी चीजों में कोई दिलचस्पी नहीं है। वे अब कह रहे हैं कि ठीक है, भले ही मोदी तीनों कानूनों को वापस ले लें, हम आंदोलन तब तक जारी रखेंगे जब तक कि कोई कानून नहीं बन जाता।

उदाहरण के लिए, अभी सरकार के पास निजीकरण का कार्यक्रम है। लेकिन निजीकरण का हमेशा विपक्षी दलों और ट्रेड यूनियनों ने विरोध किया है। ट्रेड यूनियनें इन किसानों की तरह हजारों लोगों को खड़ा कर सकती हैं। यूपी में, उत्तर प्रदेश में बिजली वितरण कंपनियों के निजीकरण का प्रस्ताव था। राज्य बिजली बोर्डों को सैकड़ों-हजारों करोड़ का नुकसान हुआ। व्यवस्था में सुधार का एकमात्र तरीका निजीकरण है। लेकिन जब यह प्रयास किया गया, तो तुरंत राज्य बिजली बोर्ड के कर्मचारियों ने कहा कि वे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे और राज्य को पंगु बना देंगे। बिजली नहीं होगी। राज्य सरकार ने कहा कि इस पर बातचीत करते हैं। किसी को विश्वास नहीं है कि यह काम करेगा।

मोदी की फॉर्मल पोजिशन के अनुसार, अब हम निजीकरण के लिए आगे बढ़ रहे हैं। आवश्यक कंपनियों की सीमित सूची के अलावा अन्य सभी का निजीकरण किया जाएगा। माफ कीजिएगा, लेकिन जिस तरह का आंदोलन किसानों और यूपी के बिजली वालों ने किया, अगर वैसा ही हुआ तो ऐसा कैसे चलेगा? बंदरगाहों जैसी पुरानी संपत्तियों को बेचकर 6 लाख करोड़ रुपये जुटाने और उस पैसे का उपयोग इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए करने के लिए नेशनल मॉनेटाइजेशन पाइपलाइन को लाया गया है। यह उत्कृष्ट विचार है और यह अखिल भारतीय ग्रिड में बड़ी संख्या में नए एक्सप्रेसवे, पाइपलाइन, सड़क नेटवर्क, बिजली नेटवर्क की फाइनेंसिंग के लिए बेहद महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।

यदि आप निजीकरण नहीं कर सकते हैं और यदि आप अन्य पुरानी संपत्तियों का मॉनेटाइजेशन नहीं कर सकते हैं तो पैसा कहां से आएगा। सच तो यह है कि मोदी को अब कमजोर व्यक्ति के रूप में देखा जाने लगा है। मोदी को अब एक ऐसे व्यक्ति के रूप में देखा जा रहा है, जिसके किए गए सुधारों को वापस लिया जा सकता है। भाजपा के भीतर भारतीय मजदूर संघ और स्वदेशी जागरण मंच जैसे संगठन हमेशा से सुधार विरोधी रहे हैं। 2019 के चुनाव के बाद उन्हें दरकिनार कर दिया गया था। मोदी इतने धमाकेदार अंदाज में वापस आए, कि वे कह सकते थे कि ’देखो मुझे माफ करना अब तुम लोगों को पीछे हटना पड़ेगा। मुझे इन क्षेत्रों में आगे बढ़ना चाहिए।’ वे दो संगठन एक बार फिर से उत्साहित होंगे कि ’नहीं, हम एक बार फिर भाजपा के भीतर से इन सभी सुधार उपायों का सक्रिय रूप से विरोध करेंगे।’ इसलिए किसानों के सामने आत्मसमर्पण करके मोदी ने सभी प्रकार के अन्य सुधार मोर्चों पर समान आंदोलन, समान विरोध और समान तोड़फोड़ और अपमान के लिए द्वार खोल दिया है।

क्या आपको लगता है कि बाजारों को नकारात्मक संदेश मिल रहा है?
बिल्कुल। मोदी इस निर्णय को बाजार के अनुरूप नहीं बना रहे हैं। मोदी ने यह निर्णय उत्तर प्रदेश, पंजाब और तीन अन्य राज्यों के आगामी चुनावों को देखते हुए लिया है। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि इस आंदोलन में भाग लेने वाले किसानों का एक बड़ा हिस्सा पंजाब और यूपी से है। इन राज्यों के किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य से सबसे ज्यादा फायदा हुआ है और वे मौजूदा व्यवस्था को बरकरार रखना चाहते हैं।

ऐसे किसान भी हैं, जो सुधारों के पक्ष में और पंजाब के इन किसानों के खिलाफ हैं, जैसे कि महाराष्ट्र में शेतकारी संगठन। इसी तरह, आंध्र प्रदेश में फेडरेशन ऑफ फार्म एसोसिएशन के पी चेंगल रेड्डी ने भी कहा है कि हम सुधार चाहते हैं। इसलिए ऐसा नहीं है कि सभी किसान सुधार चाहते हैं और सभी किसान सुधार नहीं चाहते हैं। मोदी कहते हैं कि आगामी चुनावों में हार का जोखिम उठाने के बजाय, मुझे इस विरोध को रास्ते से हटाने दो क्योंकि मेरी छवि खराब होगी। फिर भले ही शेयर बाजार प्रभावित हो, निजीकरण के मोर्चे पर अन्य समस्याएं पैदा हों। वह सोचते हैं कि इस समय इस मोर्चे पर पीछे हटना बेहतर है, बजाय इसके कि यूपी या पंजाब चुनावों में बहुत अपमानजनक हार का जोखिम उठाया जाए।

लेकिन परिणाम बहुत स्पष्ट है, सुधारों का विरोध करने वाले सभी प्रकार के अन्य लोगों को बहुत प्रोत्साहन मिलेगा और वे सुधारों को तोड़फोड़ने की पूरी कोशिश करेंगे। न केवल बाहर की विभिन्न ट्रेड यूनियनों में बल्कि बीजेपी के अंदर ट्रेड यूनियन और स्वदेशी जागरण मंच भी इसका विरोध करेंगे। कृपया याद रखें कि इन लोगों ने 2014 में भूमि अधिग्रहण कानून का भी विरोध किया था जिसे मोदी ने पेश किया था और उन्हें वापस लेने के लिए मजबूर किया गया था।

उन्होंने अब फिर ऐसा किया है। तथ्य यह है कि मोदी विशेष रूप से शेयर बाजार को संकेत देने की ओर नहीं देख रहे थे। वह यूपी चुनाव जीतना चाहते हैं। क्या यह संभव है कि पूरी बात खत्म हो जाएगी? हो सकता है। लेकिन सभी विपक्षी दल किसानों के आंदोलन को जारी रखने के लिए धन देंगे। अभी, वे यह कहना जारी रखने की कोशिश कर रहे हैं कि आपके पास एमएसपी पर कानून होना चाहिए। सच तो यह है कि अगर मोदी एमएसपी पर कानून बना भी देते हैं, तो वे चुनाव तक आंदोलन करते रहने का कोई और कारण ढूंढ लेंगे।

राजनीति इसका एक बहुत बड़ा हिस्सा है। यह सिर्फ किसान और कुछ सुधारकों की बात नहीं हैं। यह बात यूपी और पंजाब चुनावों से काफी ऊपर है। इसे उस संदर्भ में देखा जाना चाहिए। शेयर बाजार की ओर देखने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए यह बात परेशान करने वाली है कि लोकलुभावन आंदोलनों के लिए अगर इस तरह का बलिदान निरंतर होता रहा तो सुधारों का भविष्य क्या है और भारत के आर्थिक विकास के लिए परिणाम क्या हैं। मुझे डर है कि संदेश नकारात्मक है। इसका मतलब है कि विकास और उत्पादकता को नुकसान होने वाला है इसलिए यह अर्थव्यवस्था के साथ-साथ मोदी के लिए भी एक झटका है। इन्हे भी जरूर पढ़ें

  • जंगल में प्रेमी जोड़े को देख 4 युवकों की बिगड गई नीयत, प्रेमी को पेड़ में बांध चारों ने
  • महिलाओं के सारे राज खोल देते हैं ये 2 अंग , जानिये उनकी हर छुपी हुई ख़ास बात
  • यहां महिलाएं मुंह की बजाय गुप्तांग में दबाती है तंबाकू, वजह जानकर उड़ जायेंगे होश
  • Shimla, Mandi, Kangra, Chamba, Himachal, Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

Leave a Reply