HealthIndia

खट्टी डकार से हैं परेशान, तो घर में रखी इन चीजों 5 के सेवन से आपका पेट होगा ठीक

खट्टी डकार से हैं परेशान, तो घर में रखी इन चीजों 5 के सेवन से आपका पेट होगा ठीक


खट्टी डकारें विभिन्न पाचन समस्याओं का संकेत हो सकती हैं, जैसे अत्यधिक गैस, अपच, गैस्ट्रिटिस या अन्य पाचन विकार। इसके इलाज में कई घरेलू नुस्खे भी बहुत काम आते हैं।

अगर आप खट्टी डकार से परेशान हैं तो घर में रखी इन 5 चीजों का सेवन आपके पेट को फायदा पहुंचाएगा।
खाने के बाद डकार आना आम बात है, डकार आने के कई कारण होते हैं, जब हमारा पाचन तंत्र खाना पचा रहा होता है तो गैस भी मुंह से होकर गुजरती है, इसे डकार कहा जाता है।

लेकिन कुछ लोगों को रोजाना खाने के बाद खट्टी डकारें आने लगती हैं, जो सामान्य नहीं है, इसे रिफ्लक्स डिसऑर्डर भी कहा जा सकता है। खट्टी डकार के साथ सांसों की दुर्गंध भी आती है। इसे सल्फर बर्प भी कहा जाता है। इससे आने वाली गंध हाइड्रोजन सल्फाइड की होती है।

खट्टी डकारें विभिन्न पाचन समस्याओं का संकेत हो सकती हैं, जैसे अत्यधिक गैस, अपच, गैस्ट्रिटिस या अन्य पाचन विकार। यह पाचन संबंधी समस्या है और इसमें कुछ घरेलू उपाय काफी मददगार होते हैं।

जीरा पानी: खट्टी डकार की समस्या के लिए जीरे के पानी का सेवन भी एक कारगर उपाय है। इसके लिए गर्म पानी में थोड़ा सा जीरा मिलाकर पिएं। इसे पीने से पेट में गैस की समस्या कम हो जाती है और खट्टी डकारें भी कम आती हैं।

प्रोबायोटिक्स : खट्टी डकार को ठीक करने के लिए अपने आहार में प्रोबायोटिक्स बढ़ाएँ। इसके लिए अपनी डाइट में दही और दही को शामिल करें। इसमें मौजूद अच्छे बैक्टीरिया आपके पाचन स्वास्थ्य के लिए अच्छे हैं। प्रोबायोटिक्स गैस और अपच दोनों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

अदरक : अदरक का रस पानी में मिलाकर पीने से भी खट्टी डकारें ठीक हो जाती हैं। यह आपके पाचन को बेहतर बनाता है. अदरक में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों सहित कई औषधीय गुण होते हैं। इससे पेट की सामान्य समस्याएं जैसे अपच, गैस और डकार आना ठीक हो जाती है।

सोंठ : सूखे अदरक के पाउडर को नमक के साथ लेने से भी खट्टी डकार को कम किया जा सकता है, क्योंकि नमक पाचन में भी सुधार करता है और खट्टी डकार को कम कर सकता है।

ग्रीन टी : ग्रीन टी भोजन को पचाने में भी मदद करती है, जिससे खट्टी डकारें नहीं आतीं। इसके लिए ग्रीन टी में नींबू का रस मिलाकर पिएं। इसमें मौजूद उच्च एंटीऑक्सीडेंट अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के खतरे को भी कम करते हैं।

himachalikhabar
the authorhimachalikhabar

Leave a Reply