google-site-verification=9tzj7dAxEdRM8qPmxg3SoIfyZzFeqmq7ZMcWnKmlPIA
Sunday, February 5, 2023
Dharam

नाखून काटने के लिए सबसे शुभ होता है ये दिन, अचानक मिलता है पैसा, सफलता!

Nail Cutting Astro Tips in Hindi: नाखून काटने के समय और दिन को लेकर कई तरह की बातें कही जाती हैं. अक्‍सर बड़े-बुजुर्ग यह कहते हैं कि इस दिन या वार को नाखून नहीं काटना चाहिए. आज जानते हैं कि नाखून काटने के लिए कौनसा दिन शुभ होता है.
This day is most auspicious for cutting nails, suddenly you get money, success!

Astro Tips for Nail Cutting: नाखून भले ही मृत कोशिकाओं से बने होते हैं लेकिन हाथ-पैर की खूबसूरती बढ़ाने में बहुत अहम होते हैं. सेहत की नजर से नाखूनों को समय-समय पर काटने और साफ-सुथरा रखने की सलाह दी जाती है. धर्म-शास्‍त्रों में नाखून काटने को लेकर कुछ नियम बताए गए हैं. नाखून काटने के लिए सही दिन और दिन का कौनसा समय शुभ होता है, इसे लेकर लोगों के मन में असमंजस की स्थिति रहती है. धम्र और ज्‍योतिष के अनुसार सूर्यास्‍त के समय और इसके बाद यानी कि रात में कभी भी नाखून नहीं काटने चाहिए, इससे मां लक्ष्‍मी नाराज होती हैं और घर में गरीबी आती है. वहीं सप्‍ताह के अलग-अलग दिन में नाखून काटने से अलग-अलग फल मिलता है.

नाखून काटने का दिन और उसका असर

सोमवार- सोमवार का संबंध भगवान शिव, चंद्रमा और मन से होत है. सोमवार को नाखून काटने से तमोगुण से मुक्ति मिलती है.

मंगलवार- वैसे हनुमान जी को समर्पित मंगलवार के दिन नाखून-बाल काटने की मनाही की जाती है. लेकिन ये भी मान्‍यता है कि इस दिन नाखून काटने से कर्ज से मुक्ति मिलती है.

बुधवार- बुधवार के दिन नाखून काटने से धन लाभ होता है. इसके अलावा करियर में बुद्धिमत्‍ता के जरिए पैसा कमाने के योग बनते हैं.

गुरुवार- गुरुवार का दिन देवगुरु बृहस्‍पति को समर्पित है. इस दिन नाखून काटने से व्‍यक्ति में सत्‍व गुण बढ़ते हैं.

शुक्रवार- शुक्रवार का दिन शुक्र ग्रह को समर्पित है और इसका संबंध प्रेम, धन-विलासिता से है. शुक्रवार को भी नाखून काटने के लिए अच्‍छा दिन माना गया है. ऐसा करने से जीवन में रिश्‍ते मजबूत होते हैं.

शनिवार- शनिवार के दिन नाखून नहीं काटना चाहिए. इससे कुंडली में शनि कमजोर होता है. साथ ही कई तरह के मानसिक, शारीरिक कष्‍ट होते हैं. धन हानि होती है.

रविवार- छुट्टी होने के कारण लोग नाखून-बाल काटने का काम रविवार को करते हैं, जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए. इससे आत्‍मविश्‍वास कम होता है.

Sumeet Dhiman
the authorSumeet Dhiman

Leave a Reply