google-site-verification=9tzj7dAxEdRM8qPmxg3SoIfyZzFeqmq7ZMcWnKmlPIA
Tuesday, March 21, 2023
Dharam

विश्व का एकमात्र मंदिर जहा स्थित है भगवान विष्णु के चरण, मंदिर पर लगा हुआ है पूरा 100 किलो का सोना, चमक ऐसी की देखने वाले देखते ही रह जाएँगी –


बिहार के गया में विष्णुपद मंदिर में भगवान विष्णु के पैरों के निशान हैं। मान्यता है कि इस मंदिर में आकर भगवान विष्णु के दर्शन करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। यहां आकर पितरों की पूजा करने से पितरों को पवित्र लोक की प्राप्ति होती है। यह एक ऐसा मंदिर है

जहां पर सीधे भगवान विष्णु के पदचिन्ह देखे जा सकते हैं। इस मंदिर में विष्णु की मूर्ति के स्थान पर उनके चरणों की पूजा की जाती है और प्रतिदिन रक्त चंदन से सजाया जाता है। कहा जाता है कि इस मंदिर का जीर्णोद्धार 18वीं शताब्दी में महारानी अहिल्याबाई ने करवाया था।

लेकिन यहां भगवान विष्णु के चरण सतयुग के समय के हैं। मंदिर में बने विष्णु के चरण गदा, चक्र, शंख आदि से खुदे हुए हैं। यह परंपरा कई सालों से चली आ रही है। यह मंदिर फाल्गु नदी के पश्चिमी तट पर स्थित है और यहां हर साल दूर-दूर से लोग आते हैं।

मंदिर से जुड़ी पौराणिक कथाओं के अनुसार, विष्णुपद मंदिर में भगवान विष्णु के पदचिन्हों का प्रतीक ऋषि मारीचि की पत्नी माता धर्मवत्ता की चट्टान पर है। कहा जाता है कि ग्‍यासुर को स्थिर करने के लिए धर्मपुरी से माता धर्मवत् शिला लाई गई थी। जिसे भगवान विष्णु ने गयासुर पर रखकर अपने पैरों से दबा दिया। इसके बाद पत्थर पर भगवान के पदचिन्ह बन गए।

विष्णुपद मंदिर के शीर्ष पर 50 किलो सोने का कलश और 50 किलो सोने का झंडा रखा गया है। गर्भगृह में 50 किलो चांदी की छतरी और 50 किलो चांदी का ऑक्टोपस है। जिसके अंदर भगवान विष्णु के चरण विराजमान हैं। भगवान विष्णु के पैरों की लंबाई लगभग 40 सेमी है।

विष्णुपद मंदिर बहुत ही सुंदर और शानदार तरीके से बनाया गया है। यह मंदिर सोने के सख्त पत्थर से बना है। ये पत्थर जिले के अत्री प्रखंड के पत्थरों से लाए गए थे। मंदिर लगभग 100 फीट ऊंचा है और इसमें एक सभा मंडप है। जहां 44 खंभों को खड़ा किया गया है।

सीताकुंड फाल्गु नदी के पास विष्णुपद मंदिर के सामने स्थित है। किंवदंती के अनुसार, माता सीता ने यहां राजा दशरथ को दशरथ का शरीर दान किया था। उस समय यह स्थान जंगल के जंगल के रूप में प्रसिद्ध था। भगवान श्री राम माता सीता के साथ महाराज दशरथ का शरीर दान करने आए थे।

जहां माता सीता ने राजा दशरथ को बालू की सिल्लियां और फाल्गु का जल अर्पित किया। तब से यहां रेत से बना नील बन गया है और आज भी लोग अपने पूर्वजों की मुक्ति के लिए इस मंदिर में सिल्लियां दान करते हैं।

मान्यता है कि भगवान विष्णु के चरण स्पर्श करने से मनुष्य सभी पापों से मुक्त हो जाता है। अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा गया में स्थित है। चूंकि गया एक बौद्ध क्षेत्र है, श्रीलंका, थाईलैंड, सिंगापुर और भूटान जैसे देशों से उड़ानें आती हैं। इसके अलावा गया बिहार, दिल्ली, वाराणसी और कोलकाता के दूसरे सबसे व्यस्त हवाईअड्डे बिहार जैसे शहरों से भी अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

गया जंक्शन दिल्ली और हावड़ा रेलवे लाइन पर स्थित है। यहां से कई बड़े शहरों के लिए ट्रेनें चलती हैं। बिहार और झारखंड में भी, गया उन 66 रेलवे स्टेशनों में से एक है, जिन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बनाने की योजना है।

इसके अलावा गया बिहार और देश के अन्य शहरों से सड़क मार्ग से भी जुड़ा हुआ है। कोलकाता से ग्रांड ट्रंक रोड गया से 30 किमी दूर डोभी से होकर गुजरता है। गया पटना से 105 किमी, वाराणसी से 252 किमी और कोलकाता से 495 किमी दूर है।

himachalikhabar
the authorhimachalikhabar

Leave a Reply