google-site-verification=9tzj7dAxEdRM8qPmxg3SoIfyZzFeqmq7ZMcWnKmlPIA
Thursday, February 9, 2023
India

संघर्ष का दूसरा नाम जीवन है, हिम्मत मत हारो और आगे बढ़ते रहो!

मानव जीवन संघर्षों से भरा है। जन्म से मृत्यु तक के सफर में मनुष्य को अनेक संघर्षों का सामना करना पड़ता है। इन संघर्षों के रूप भी अलग-अलग हैं। मनुष्य के आंतरिक और बाहरी वातावरण के बीच कुछ संघर्ष होते हैं। बाहरी संदर्भ में विभिन्न प्रकार की परिस्थितियाँ, व्यक्ति और समाज शामिल हैं। इन बाह्य संघर्षों की विशेषता यह है कि इनमें क्रिया एक ओर होती है और प्रतिक्रिया दूसरी ओर होती है।

यानी क्रिया और प्रतिक्रिया का प्रभाव अलग-अलग लोगों पर पड़ता है। वहीं कुछ संघर्ष मनुष्य के आंतरिक दायरे में पैदा होते हैं और उसी सीमा के भीतर चलते रहते हैं। इस संघर्ष की ख़ासियत यह है कि इसमें आदमी द्वारा की गई कार्रवाई, प्रतिक्रिया भी वही मनुष्य करता है। अर्थात क्रिया और प्रतिक्रिया दोनों एक ही व्यक्ति को प्रभावित करते हैं। इस कारण से, ऐसे संघर्ष कहीं अधिक व्यापक होते हैं और आमतौर पर बाहरी संघर्षों की तुलना में घातक होते हैं। स्वयं के साथ स्वयं के इस संघर्ष को आंतरिक दुविधा कहा जाता है।

आंतरिक द्वंद्वात्मकता आमतौर पर एक ऐसी स्थिति है जिसमें आंतरिक उथल-पुथल की स्थिति इतनी तीव्र और तीव्र होती है कि कभी-कभी आंतरिक स्थिरता बिल्कुल नहीं होती है। इसके कारण आप अपनी भावनाओं से खुद को अवगत नहीं करा पाते हैं। यह स्थिति आपको बहुत दर्द दे सकती है। ऐसी स्थिति में बेचैनी, भ्रम और अशांति की सीमा का अंदाजा लगाना मुश्किल है। कई बार यह स्थिति लंबे समय तक बनी रह सकती है। बाहरी झगड़ों की तुलना में आंतरिक अशांति को शांत होने में अधिक समय लगता है। इसे शांत करने का एक ही तरीका है और वह है जो कुछ भी हो रहा है, इसे प्रकृति की इच्छा के रूप में स्वीकार किया जाना चाहिए। स्थिति पर ध्यान न दे पाने की स्थिति में हमें केवल कर्म करने का निश्चय करना चाहिए और परिणाम ईश्वर पर छोड़ देना चाहिए।

Sumeet Dhiman
the authorSumeet Dhiman

Leave a Reply