google-site-verification=9tzj7dAxEdRM8qPmxg3SoIfyZzFeqmq7ZMcWnKmlPIA
Monday, February 6, 2023
Health

भारत में हर 7 में से 1 कपल इनफर्टिलिटी की समस्या से है परेशान, आज से बदल लें ये आदतें

इंडियन सोसाइटी ऑफ असिस्टेड रिप्रोडक्शन (ISAR) के अनुसार, बांझपन पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित कर सकता है और वर्तमान में 10-14% भारतीय जोड़ों को प्रभावित करता है। अगर आप एक साल से स्वाभाविक रूप से गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं और फिर भी गर्भधारण नहीं कर पा रही हैं, तो डॉक्टरी मदद लेना अनिवार्य है। क्‍योंकि ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से आप प्रेग्‍नेंट नहीं हो पाती हैं। इनमें से कई कारकों को चिकित्सा उपचार या जीवन शैली में परिवर्तन के माध्यम से उलटा किया जा सकता है।

फिर भी, बहुत से लोग इनफर्टिलिटी के मुद्दों और आईवीएफ के काम करने के तरीके को नहीं समझते हैं। आपको बता दें कि आमतौर पर आईवीएफ बांझपन का एकमात्र उपचार विकल्प नहीं है। यह उन जोड़ों के लिए है जिन्होंने कुछ समय से स्वाभाविक रूप से गर्भवती होने की कोशिश की है लेकिन असफल रहे हैं। ये जोड़े मेडिकल, जेनेटिक और लाइफस्टाइल से जुड़ी समस्याओं आदि से निपट सकते हैं। डॉक्टरों के मुताबिक, हाल के वर्षों में पुरुषों में कम स्पर्म काउंट और महिलाओं में कम एग रिजर्व का चलन रहा है। इसका सबसे बड़ा कारण एक गतिहीन जीवन शैली, पर्यावरण की स्थिति और अन्य चीजों के साथ-साथ ड्रग्स, शराब और धूम्रपान की लत है। इसके अलावा ज्यादातर लोग पीसीओडी, डायबिटीज और थायराइड जैसी बीमारियों से पीड़ित हैं, जो फर्टिलिटी को प्रभावित करती हैं।

लोग अक्सर इनफर्टिलिटी को महिलाओं की स्थिति के रूप में देखते हैं, लेकिन आपको बता दें कि 20% इनफर्टिलिटी पुरुषों और महिलाओं दोनों के कारण होती है, 40% पुरुष कारकों के कारण और 40% महिला कारकों के कारण होती है। आइए जानते हैं महिलाओं में इनफर्टिलिटी और पुरुषों में स्पर्म काउंट कम होने के क्या कारण हैं।

महिलाओं में बांझपन का कारण
पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज
एंडोमेट्रियोसिस
पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम
फैलोपियन ट्यूब में ब्लॉकेज
थायराइड
फाइब्रॉएड

पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या कम होने के कारण
धूम्रपान, शराब और नशीली दवाओं का
पागलपन वर्कआउट
तंग
कपड़े पहनने का
तनाव

Sumeet Dhiman
the authorSumeet Dhiman

Leave a Reply