google-site-verification=9tzj7dAxEdRM8qPmxg3SoIfyZzFeqmq7ZMcWnKmlPIA
Monday, February 6, 2023
Dharam

ये है दुनिया का सबसे बड़ा शिव मंदिर, जहां भोलेनाथ ने दिया था ब्रह्माजी को श्राप, यहां परिक्रमा करने से होती है सभी मनोकामनाएं पूरी –


हमारे देश में भगवान शिव के कई मंदिर हैं और हर मंदिर से कोई न कोई खास कहानी जुड़ी हुई है। आज हम आपको भगवान शिव के ऐसे ही एक खास मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं। कहा जाता है कि इसी मंदिर में भोलेनाथ ने ब्रह्मा को श्राप दिया था।

यह मंदिर तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई जिले में स्थित है। अन्नामलाई पहाड़ियों की तलहटी में स्थित इस मंदिर को अनामलर या अरुणाचलेश्वर शिव मंदिर के नाम से जाना जाता है। अरुणाचलेश्वर शिव मंदिर दुनिया का सबसे बड़ा शिव मंदिर भी है। इस मंदिर को बहुत ही खूबसूरती से बनाया गया है।

मंदिर की कहानी .. शिव पुराण में इस मंदिर की कथा का उल्लेख है। कहा जाता है कि एक बार विष्णुजी और ब्रह्माजी के बीच अपनी श्रेष्ठता को लेकर विवाद हो गया था। उन्होंने इस विवाद को सुलझाने के लिए शिव की मदद मांगी। तब शिव ने उन दोनों की परीक्षा लेने का निश्चय किया। शिवाजी ने विष्णुजी और ब्रह्माजी से कहा कि जो कोई भी मेरा आदि या अंत से पहले पाता है, वह अधिक श्रेष्ठ होगा।

भगवान विष्णु ने वराह के रूप में अवतार लिया और शिव के चरम को खोजने के लिए जमीन खोदना शुरू कर दिया। जब भगवान ब्रह्मा ने हंस का रूप धारण किया और अपने मूल रूप (सिर) को खोजने के लिए आकाश में उड़ गए। लेकिन इन दोनों में से कोई भी सफल नहीं हो सका।

जिसके बाद भगवान विष्णु ने अपनी हार स्वीकार कर ली और लौट गए। दूसरी ओर ब्रह्माजी भी शिव के शिखर की खोज करते-करते थक गए। हालांकि इसी बीच उन्होंने केवड़ा का फूल जमीन पर गिरते देखा। केवड़ा का यह पुष्य यहां कई वर्ष पूर्व भगवान शिव के बालों से गिरा था।

जब ब्रह्माजी को इस बात का पता चला तो उन्होंने शिव से झूठ बोलने के लिए फूल से प्रार्थना की कि ब्रह्माजी ने इसकी शुरुआत यानि शीर्ष को देखा है। साथ ही, सावन के महीने में इस मंदिर में बहुत भीड़ होती है। दूर-दूर से भक्त यहां आते हैं और शिव का जलाभिषेक करते हैं। हालांकि इस साल इस मंदिर को कोरोना के चलते बंद कर दिया गया है।

ब्रह्माजी के अनुरोध पर पुष्य झूठ बोलने के लिए तैयार हो गया। वहीं जब केवड़े के ब्रह्माजी और पुष्य ने झूठ बोला तो शिवाजी को गुस्सा आ गया। उन्होंने ब्रह्मा को श्राप दिया कि पृथ्वी पर उनके लिए कोई मंदिर नहीं होगा। जब केवडेना ने पुष्य को श्राप दिया कि उसकी पूजा में कभी भी इसका उपयोग नहीं किया जाएगा।

हर मनोकामना पूरी होती है.. ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव इस मंदिर में जाकर हर मनोकामना पूरी करते हैं। यही कारण है कि भक्त अन्नामलाई पर्वत की परिक्रमा करते हैं। सर्किट 14 किलोमीटर लंबा है। परिक्रमा के बाद, भक्त शिव के पास जाते हैं और शिव से व्रत मांगते हैं।

एक विशाल मेले का आयोजन किया जाता है। हर साल अरुणाचलेश्वर शिव मंदिर में एक विशाल मेले का भी आयोजन किया जाता है। यह मेला कार्तिक पूर्णिमा के दिन आयोजित किया जाता है और इस मेले को देखने के लिए भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है।

इसे कार्तिक दीपम कहा जाता है। इस अवसर पर एक विशाल दीपक का दान किया जाता है। प्रत्येक पूर्णिमा पर परिक्रमा करने का नियम है, जिसे गिरिवलम कहा जाता है। मंदिर सुबह 5.30 बजे खुलता है और रात 9 बजे तक खुला रहता है। मंदिर में नियमित अन्नदानम भी किया जाता है।

कैसे पहुंचे… चेन्नई से तिरुवन्नामलाई की दूरी 200 कि.मी. है। यहां चेन्नई से बस द्वारा भी पहुंचा जा सकता है। ट्रेन से जाने के लिए आप चेन्नई से वेल्लोर या चेन्नई होते हुए विल्लुपुरम जा सकते हैं। आप विल्लुपुरम या वेल्लोर में भी रुक सकते हैं और तिरुवन्नामलाई मंदिर के दर्शन करके वापस आ सकते हैं।

himachalikhabar
the authorhimachalikhabar

Leave a Reply