असम क्रिकेट संघ (एसीए) के अधिकारियों ने कहा कि वे सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे कि भारतीय टीम जब श्रीलंका के खिलाफ यहां के मैदान पर एकदिवसीय मैच के लिए उतरे तो बिजली कटौती की समस्या ना हो।

असम क्रिकेट संघ (एसीए) के अधिकारियों ने कहा कि वे सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे कि भारतीय टीम जब श्रीलंका के खिलाफ यहां के मैदान पर एकदिवसीय मैच के लिए उतरे तो बिजली कटौती की समस्या ना हो। राज्य क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों ने कहा कि एसीए स्टेडियम 10 जनवरी को दोनों देशों के बीच तीन मैचों की श्रृंखला के पहले वनडे की मेजबानी करेगा।

एसीए ने मैदान पर सांप की मौजूदगी को रोकने के लिए एक एनजीओ की मदद ली है। पिछले साल अक्टूबर में भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच के दौरान मैदान पर सांप निकल आया था। इस मैच को बिजली कटौती के कारण भी थोड़ी देर के लिए रोकना पड़ा था।

मैदान में रोशनी की समस्या से निजात पाने के लिए एसीए द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में अध्यक्ष तरंग गोगोई ने कहा, ”भारत – दक्षिण अफ्रीका मैच में फ्लड लाइट टावरों में से एक के साथ कुछ तकनीकी समस्या थी। हमने सभी फ्लड लाइटों में एलईडी बल्ब लगाने का काम पहले ही शुरू कर दिया है।”

उन्होंने कहा, ”नये बल्ब लगाने में लगभग एक महीने का समय लगेगा और हमारे पास पर्याप्त समय नहीं है। ऐसे में 10 जनवरी के मैच के लिए मौजूदा फ्लड लाइट का उपयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा कि फ्लड लाइट टावरों के साथ-साथ पूरे स्टेडियम की सभी वायरिंग और अन्य तकनीकी पहलुओं की पूरी तरह से जांच की जा रही है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि भारत-दक्षिण अफ्रीका मैच जैसी कोई गड़बड़ी दोबारा न हो।”

सांप की समस्या के बारे में पूछे जाने पर गोगोई ने कहा कि सांपों के लिए काम करने वाली एक एनजीओ की मदद ली गई है। इसने रसायनों का छिड़काव किया है और यह सुनिश्चित करने के लिए अन्य उपाय किए हैं कि फिर से ऐसा ना हो। उन्होंने कहा, ”सिर्फ मैदान ही नहीं, हम स्टैंड सहित पूरे स्टेडियम में सांप की उपस्थिति को नियंत्रित करने के लिए ये कदम उठा रहे हैं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *