HealthIndia

अर्जुन के छाल का सेवन करने से होते हैं ये फायदे, जरुर जानें.

अर्जुन के छाल का सेवन करने से होते हैं ये फायदे, जरुर जानें.

अर्जुन के पेड़ हमारे सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता हैं. इस पेड़ में पाए जाने वाले अनेकों तरह के आयुवेंद औषधिय गुण मौजूद होते हैं. जो हमारे लिए बहुत ही उपयोगी होता हैं. एक शोध के अनुसार, कुछ डॉक्टर्स का कहना हैं कि इसका सेवन करने से हार्ट अटैक, स्ट्रोक या हार्ट फेल जैसे हार्ट से संबंधी मरीजों के लाभकारी के लिए बहुत ही उपयोगी होता हैं. अर्जुन का पेड़ भारत में अनेकों राज्यों में पाए जाते हैं. जैसे कि हिमाचल प्रदेश, बिहार, उत्तरप्रदेश, तथा मध्यप्रदेश ये सब राज्यों में ज्यादा से ज्यादा पाए जाते हैं.

अर्जुन के छाले का सेवन करने से होते हैं ये फायदे, जरुर जानें

तो चलिए जानते हैं इसके फायदे

कान के दर्द में उपयोगी – अर्जुन के पेड़ के हरे पत्ते को एक बर्तन में रखकर उसे अच्छे तरह से पीसने वक्त जो बूंदे निकलते हैं जो एक बर्तन को छान ले. फिर लेट कर उस बूंदे को अपने कानो में 4 से 5 बूंदे डाले, बूंदों को डालने के बाद कुछ देर तक लेते ही रहे और कुछ समय बाद उठ जाए. ऐसे करने से आपके कानों के दर्द में बहुत ही राहत मिलता हैं.

पेट में होने वाले गैस को ठीक करने में उपयोगी – अगर आप गैस की समस्यों से रहते हैं परेशान तो अर्जुन के पेड़ का छाल का जरुर सेवन करें. एसिडिटी से छुटकारा दिलाने में मदद करता हैं. अर्जुन के छाल को कैसे उपयोग करते हैं इसके बारे में कुछ नियम जरुर प्रयोग करें.

रोजाना आप 10 से 15 मिलीग्राम अर्जुन के छाल को एक काढ़े के रूप में तैयार कर लें. और उसे प्रतिदिन नियमित रूप से सेवन करें. पेट की गैस और साथ ही एसिडिटी जैसे परेशानी से छुटकारा मिल सकता हैं.

मूत्राघात में फायदेमंद – पेशाब करने समय अक्सर दर्द या जलन जैसा महसूस होता हैं. यह मूत्राघात के मूल कारण होते हैं. इससे छुटकारा पाने के लिए अर्जुन के छाल का काढ़ा बनाकर 15 से 20 मिलीग्राम रोजाना पिए, इससे आपको राहत मिलेगा. और साथ ही दर्द या जलन नहीं होगा.

हड्डियों के जोड़ों में दर्द से मिलता हैं राहत – अगर किसी कारण हड्डी टूट जाए या हड्डियों को कमजोर होना. तो इससे राहत पाने के लिए रोजाना अर्जुन के छले का सेवन जरुर करें. अर्जुन के छले का प्रयोग करने से हड्डियों के दर्द में बहुत ही आराम मिलता हैं. और साथ ही हड्डियों को जोड़ने का भी काम करता हैं.

himachalikhabar
the authorhimachalikhabar

Leave a Reply