Ajab GazabIndia

उत्तराखंड बोर्ड का एक स्कूल ऐसा जहां कोई छात्र पास नहीं हो सका


विकासनगर: UK Board Result 2024: उत्तराखंड बोर्ड का परीक्षा परिणाम जारी होते ही सरकारी स्कूलों में गुणवत्तापरक शिक्षा मुहैया कराने के दावों की पोल भी खुल गई। कुछ स्कूलों ने जीरो रिजल्ट दिया है। जबकि कुछ स्कूलों में सिर्फ एक या दो विद्यार्थी ही उत्तीर्ण हुए हैं। सरकारी तंत्र के शिक्षा में सुधार के दावों की पोल खुल गई है। स्कूलों में पर्याप्त शिक्षकों की तैनाती, शिक्षकों को नवाचार की जानकारी देकर उसे शिक्षण में प्रयोग करने की नसीहतें देने का दावा भी विभागीय अधिकारी करते रहते हैं। लेकिन स्कूल रिजल्ट के मामले में फिसड्डी साबित हो रहे हैं। राजधानी से 55 किमी की दूरी पर कालसी ब्लॉक का राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रिखाड़ इस बार ऐसा ही विद्यालय साबित हुआ है।

इस विद्यालय के दो छात्र बोर्ड परीक्षा में शामिल हुए। लेकिन, इस बार दोनों ही परीक्षा पास नहीं कर पाए। हालांकि, यह अलग बात है कि रमसा के तहत संचालित हो रहे इस विद्यालय में सभी स्वीकृत पदों पर शिक्षकों की तैनाती है। इसी ब्लॉक के राजकीय इंटर कॉलेज कोरुवा में इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा में कुल 11 छात्र-छात्राएं शामिल हुए थे, जिनमें से मात्र दो ही छात्र उत्तीर्ण हुए। शिक्षा के हब के तौर पर उभर रहे विकासनगर ब्लॉक के राजकीय इंटर कॉलेज तिमली के 10 विद्यार्थी इंटर बोर्ड परीक्षा में शामिल हुए थे, जिनमें से मात्र एक छात्र उत्तीर्ण हुआ। इस विद्यालय में भी सभी पदों पर शिक्षक तैनात हैं।

सरकारी शिक्षा की गुणवत्ता पर उठ रहे सवाल
सरकारी स्कूलों का परीक्षा परिणाम शून्य रहने या सिर्फ एक-दो विद्यार्थियों के ही उत्तीर्ण होने से अभिभावक भी सरकारी शिक्षा व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं। अभिभावकों का कहना है कि सरकार और शिक्षा विभाग की ओर से व्यवस्था में सुधार के दावे किए जाते हैं। इन्हीं दावों पर विश्वास कर वह अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में प्रवेश दिलाते हैं, लेकिन परीक्षा परिणाम जारी होने पर निराश होना पड़ता है।

कुछ स्कूल से जीरो रिजल्ट की जानकारी मिल रही है। बोर्ड परीक्षा परिणाम की समीक्षा के लिए सभी विद्यालयों के प्रधानाचार्यों की बैठक बुलाई जाएगी। बैठक के बाद ही इस संबंध में निर्णय लिया जाएगा। -प्रदीप रावत, मुख्य शिक्षाधिकारी

himachalikhabar
the authorhimachalikhabar

Leave a Reply