Ajab GazabIndia

यहाँ अपनी ही बेटी से पिता को करनी पड़ती है शादी, वजह जानकर आप चौंक जाएंगे


Unique Marriage Tradition: यह दुनिया रंग में इतनी समृद्ध है कि हम जो देखते और सुनते हैं उस पर विश्वास करना मुश्किल है। लेकिन सच तो यह है। दुनिया में कई पारंपरिक प्रथाएं हैं, जिनका लोग पालन और पालन करते हैं। कई अनैतिक प्रथाएं हैं जो वर्षों से चली आ रही हैं, और वे समाज को गंभीर नुकसान पहुंचा रही हैं।

बांग्लादेश के मंडी लोगों के बीच एक पारंपरिक प्रथा है कि वे अपने मृतकों को अपने सामान के साथ दफना दें। मंडी जनजाति में केवल पिता ही बेटी की शादी कर सकता है। यह प्रथा इस जनजाति के लिए विशिष्ट है।

एक पिता पारंपरिक रूप से बचपन से ही अपनी बेटी का लालन-पालन करता है और फिर जब वह बड़ी हो जाती है, तो उसे अपनी पत्नी के रूप में ले लेती है। मंडी जनजाति के पुरुष अपनी युवावस्था में विधवाओं से शादी करते हैं, और उनकी बेटियां उनसे शादी करेंगी। कम उम्र की विधवा से विवाह न केवल इस समुदाय में स्वीकार्य है, बल्कि यह एक प्रथा भी है।

पिता आदमी की सौतेली बेटी भी उसकी पत्नी बन जाती है
इसका मतलब है कि आदमी की सौतेली बेटी भी उसकी पत्नी बन जाती है। एक महिला बचपन से ही एक पुरुष को अपना पिता कहती है, लेकिन जब लड़की बड़ी हो जाती है, तो वह अपने पिता की शादी उस आदमी से कर देती है। जानकारी के मुताबिक बांग्लादेश की यह कुप्रथा आज से नहीं सदियों से चली आ रही है।

सौतेली माँ को सफलतापूर्वक अभ्यास करने के लिए, पिता को सौतेली माँ होना चाहिए। जब एक आदमी एक विधवा से शादी करता है, तो वह अक्सर उसे अपनी पत्नी के रूप में लेता है जब उसकी पिछली शादी की बेटी एक निश्चित उम्र तक पहुंच जाती है।

भ्रष्टाचार की शुरुआत के लिए पिता जिम्मेदार होने के बजाय, यह तर्क दिया जाता है कि पति अपनी पत्नी और बेटी दोनों को लंबी, कम उम्र के लिए सुरक्षा प्रदान कर सकता है। महिला जननांग विकृति (FGM) की प्रथा का मंडी जनजाति की लड़कियों के जीवन पर विनाशकारी प्रभाव पड़ा है। वहीं वह बचपन से हमेशा उन्हें अपना पिता कहती रही हैं, लेकिन अब वह उन्हें अपना पति कहने को मजबूर हैं।

himachalikhabar
the authorhimachalikhabar

Leave a Reply