Ajab GazabDharamIndia

ये है पाकिस्तान में बसा भगवान शिव का मंदिर, जहां गिरे थे उनके आंसू, अब इस जगह हर साल हिंदू मनाते हैं महाशिवरात्रि

Shivratri: आज 8 मार्च को पूरे भारत में शिवरात्रि (Shivratri) मनाई जा रही है. पौराणिक कथाओं के अनुसार, इसी दिन भगवान शिव ने माता पार्वती से विवाह किया था। इस खास दिन पर लोग भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करते हैं। लेकिन आज हम आपको भारत में नहीं बल्कि पाकिस्तान में एक ऐसे हिंदू मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जो महाभारत काल से भगवान शिव को समर्पित है। इस मंदिर परिसर में सात या अधिक मंदिर हैं, जिसे सतग्रह के नाम से भी जाना जाता है। पाकिस्तान में स्थित इस मंदिर में भगवान शिव की एक झलक पाने के लिए हिंदू लालायित रहते हैं।

पाकिस्तान में स्थित है महादेव का मंदिर

दरअसल, कटासराज मंदिर (Katas Raj Temple) पाकिस्तान के पंजाब राज्य में है। पाकिस्तान के पंजाब के चकवाल जिले में चोवा सैदानशाह नाम का एक शहर है, जहां कटासराज मंदिर स्थित है। कहा जाता है कि यहां भगवान शिव अपनी पत्नी सती के साथ रहते थे। उनकी मृत्यु के बाद दुःखी शिव अपने आंसू नहीं रोक सके। वह इतना रोए कि उसके आंसुओं से दो तालाब बन गए। एक कतरासराज में और दूसरा राजस्थान के पुष्कर में। मंदिर में स्थित इस तालाब को कटाक्ष कुंड भी कहा जाता है। शिवरात्रि (Shivratri) के दिन बहुत से भक्त यहां पहुंचते हैं।

Shivratri में पहुंचते हैं श्रद्धालु

हिंदू हर साल अलग-अलग अवसरों पर इस मंदिर में इकट्ठा होते हैं। खासकर शिवरात्रि (Shivratri) के मौके पर यहां भारी भीड़ होती है। हालाकिं, वर्तमान में मंदिर में कोई मूर्ति नहीं है, तीर्थयात्री पांडव भाइयों के बलिदान को मनाने और भगवान शिव की पीड़ा की पूजा करने के लिए यहां आते हैं। मान्यता है कि इस कुंड में स्नान करने से व्यक्ति के सारे पाप धुल जाते हैं और उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है।

himachalikhabar
the authorhimachalikhabar

Leave a Reply