Ajab GazabIndia

रफ्तार का कहर! SHO की गाड़ी ने मेट्रो गेट को तोड़ते हुए बुजुर्ग को कुचला, हुई मौत


नई दिल्ली। दूसरों को रफ्तार पर कंट्रोल रखने का सबक सिखाती दिल्ली पुलिस की गाड़ी पर खुद के पुलिसकर्मी का कंट्रोल नहीं है। इसी का खामियाजा दिल्ली में रहने वाले एक बुजुर्ग को अपनी जान गंवाकर चुकानी पड़ी। जिस गाड़ी से हुए एक्सीडेंट में बुजुर्ग की मौत हुई है, वह गाड़ी राजेंद्र नगर थाना के SHO की बताई जा रही है। गाड़ी की रफ्तार इतनी तेज थी कि उसने पहले मेट्रो स्टेशन के ग्रिल को तोड़ा उसके बाद मेट्रो स्टेशन के गेट के खंभे को तोड़ा और फिर 58 साल के बुजुर्ग बैजनाथ को चपेट में लेकर उनकी जान ले ली।

SHO की गाड़ी से टकराने से बुजुर्ग की जान गई : यह तस्वीर उसी स्कॉर्पियो गाड़ी की है जिससे एक्सीडेंट हुआ है। गाड़ी की हालत देखकर आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि रफ्तार कितना ज्यादा होगा ? डीसीपी के मुताबिक आज तड़के सवा तीन बजे के आसपास एक्सीडेंट हुआ है। दिल्ली पुलिस को सूचना मिली थी, भीकाजी कामा मेट्रो स्टेशन के गेट नंबर 2 पर एक एक्सीडेंट हुआ है। पुलिस टीम मौके पर पहुंची तो देखा कि बुजुर्ग की उनकी मौत हो गई थी। पुलिस ने बुजुर्ग की बॉडी को सफदरजंग अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

दिल्ली पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार एसएचओ की गाड़ी को कांस्टेबल प्रदीप चला रहा था। जो राजेंद्र नगर पुलिस स्टेशन में पोस्टेड है। रफ्तार से गाड़ी चलाने की वजह क्या थी, यह अभी साफ नहीं हुआ है। गाड़ी चला रहा कांस्टेबल नशे में था या नहीं इसकी पुष्टि भी अभी नहीं हुई है। साउथ वेस्ट डिस्ट्रिक्ट डीसीपी के मुताबिक एक्सिडेंट के समय गाड़ी में सिर्फ कांस्टेबल था एसएचओ नहीं था।

मृतक के परिजन उठा रहे पुलिस जांच पर सवाल : पुलिस की इस जांच पर मृतक बैजनाथ की बेटी सवालिया निशान उठा रही है। वह नेशनल स्तर की रेसलर है, उन्होंने आरोप लगाया कि घटना के कई घंटे बाद भी दिल्ली पुलिस ने उन्हें सही-सही जानकारी नहीं दी। रात की घटना के बावजूद दूसरे दिन दोपहर तक दिल्ली पुलिस ने उसे मृतक पिता का चेहरा भी नहीं दिखाया है।

पुलिस उनको घुमा रहा रही है, आरोप है पुलिस इस घटना में आरोपी पुलिस वाले को बचाने की कोशिश कर रही है। पिता की मौत के बाद उसकी आंखों के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहा है। पिता की मौत को लेकर उन्हें संशय बरकरार है।हालांकि गाड़ी की स्थिति देखकर यह साफ है, कि पुलिस की गाड़ी रफ्तार में थी। मेट्रो स्टेशन पर जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, जिसमें पूरे घटना की सच्चाई कैद होगी। मृतक की बेटी की मांग है कि इस पूरे घटना का निष्पक्ष जांच हो। सभी सीसीटीवी कैमरा को खंगाला जाए, जिससे पता लग सके की आरोपी पुलिस वाला सही में कौन है और उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

himachalikhabar
the authorhimachalikhabar

Leave a Reply