Ajab GazabIndia

शत्रुघ्न सिन्हा की वजह से इस स्टार किड का करियर हुआ बर्बाद, लीड एक्टर को बना दिया साइड एक्टर, कटवा दिए कई सीन

Shatrughan Sinha: फिल्मी दुनिया पर्दे पर जितनी खूबसूरत लगती है असल में वैसी नही हैं। फिल्मों में इमानदारी, संस्कार, त्याग, नैतिकता जैसी न जाने कितनी बातें की जाती हैं और इन शब्दों को परिभाषित भी किया जाता है लेकिन असल जिंदगी में अभिनेता या अभिनेत्री काम और सफलता पाने के लिए किसी भी हद तक चले जाते हैं।

इसमें दूसरे अभिनेता का काम छिनना या फिर उसका करिदार छोटा कराना भी शामिल है। ऐसा ही एक दिग्गज अभिनेता और अब राजनेता शत्रुघ्न सिन्हा (Shatrughan Sinha) ने भी अपने करियर के दौरान किया था।
इस फिल्म से जुड़ा है किस्सा

शत्रुघ्न सिन्हा (Shatrughan Sinha) को बॉलीवुड में बतौर हीरो सफलता बाद में मिली थी। पहले उन्हें विलेन के रोल ने जबरदस्त कामयाबी दिलाई थी। जिस पहली फिल्म ने शत्रुघ्न सिन्हा को लोकप्रियता के शिखर पर पहुँचाया था वो थी कालीचरण। सुभाष घई द्वारा निर्देशित ये फिल्म 1976 में रिलीज हुई थी।

इस फिल्म में सिन्हा निगेटीव किरदार में थे। फिल्म की सफलता के बाद सुभाष घई ने शत्रु के अगली फिल्म प्लान की और फिल्म थी ‘विश्वनाथ’। ये फिल्म 1978 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म से शत्रुघ्न सिन्हा का एक ऐसा किस्सा जुड़ा है जिसे शायद उनके फैंस पसंद न करें।

इस अभिनेता का किरदार छोटा किया था

1978 में रिलीज फिल्म विश्वनाथ में शत्रुघ्न सिन्हा (Shatrughan Sinha) के साथ चरित्र अभिनेता परीक्षत साहनी (Parikshit Sahni) भी थे। फिल्म में परीक्षत का करिदार काफी प्रभावशाली था। ये बात शत्रुध्न सिन्हा को पसंद नहीं आई। उन्हें लगा कि फिल्म अगर हिट होती है तो श्रेय परीक्षित को मिल सकता है। इसलिए उन्होंने सुभाष घई से बात कर परीक्षत का रोल छोटा करवा दिया।

फिल्म के प्रीमियर में जब इस सवाल को शत्रुघ्न सिन्हा से पूछा गया तो उन्होंने कहा था कि परीक्षत इतने बड़े स्टार किड नहीं कि उनकी बात की जाए। परीक्षित अपना किरदार घटाए जाने से नाराज रहे लेकिन उन्होंने खुलकर कभी कुछ नहीं कहा। बता दें कि ये फिल्म सेमी हिट रही थी।

इस सुपरस्टार के बेटे हैं परीक्षित

परीक्षत साहनी (Parikshit Sahni) 50 के दशक के बेहतरीन अभिनेता बलराज साहनी के बेटे हैं। बलराज साहनी ने दो बीघा जमीन, गरम हवा, नील कमल, एक फूल दो माली, दो रास्ते जैसी दर्जनों फिल्मों में काम किया था। परीक्षत 1968 से फिल्मी दुनिया में सक्रिय परीक्षित ने टीवी और फिल्मों समान रुप से अपनी सक्रियता बनाए रखी है।

उनकी लोकप्रिय फिल्मों में हिंदुस्तान की कसम, मिली, कभी कभी, विश्वनाथ, नवाब साहिब, सुराग, मेरी जंग, फूल बने अंगारे, मेरे यार की शादी है, लगे रहो मुन्ना भाई, उमराव जान, थ्री इडियट, सुल्तान और डंकी प्रमुख हैं। वहीं टीवी पर बैरिस्टर विनोद का करिदार निभाकर काफी लोकप्रिय हुए थे। इसके बाद से दर्जनों टीवी सीरियल में वे बड़े किरादर में नजर आए। 1 जनवरी 1939 को जन्मे अभिनेता अब 85 साल के हो गए हैं और अब टीवी और फिल्मों में उनकी सक्रियता कम है। बड़े कालेज की लड़कियां कुछ इस तरह से करती हैं देह-व्यापार

himachalikhabar
the authorhimachalikhabar

Leave a Reply